Tuesday, December 29, 2015

ग़ज़ल

बहादुर शाह ज़फ़र
-------------------
बात करनी मुझे मुश्किल कभी ऐसी तो न थी।

जैसी अब है तेरी महफिल कभी ऐसी तो न थी।।
ले गया छिन के आज तेरा सब्रो क़रार।
बे क़रारी तुझे ऐ दिल कभी तो न थीं ।।
चश्मे क़ातिल मेरी दुश्मन थीं हमेशा लेकिन।
जैसी अब हो गई क़ातिल कभी ऐसी तो न थी।।
उसकी ऑखो ने खुदा जाने क्या क्या जादू।
के तबीयत मेरी माएल कभी ऐसी तो न थी।।
क्या सबब तु जो बिगड़ता हैं ज़फ़र पर हर बार।
खु तेरी हुर शमाएल कभी ऐसी तो न थी।।
----------------------------------------------

No comments:

विशिष्ट पोस्ट

सामान्य(मुस्लिम)जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को हटाने से संबंधित निर्णय को वापस ले सरकार वरना सड़क से लेकर संसद तक होगा आंदोलन :- मोहम्मद कमरे आलम

आठ वर्षों से कार्य कर रहे सामान्य मुस्लिम जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को एक झटके में बिहार सरकार द्वारा सेवा से यह कह कर हटा दिया...