Click here online shopping

Saturday, January 02, 2016

लिज्जत ए दर्द वफा

इब्राहीम अश्क
------------
लिज्जत ए दर्द वफा और बढ़ा दे जाना ।
दिल में जख्मो के नये फूल खिला दे जाना।।
इश्क मेरा ढनक रंग हुआ जाता है ।
तु भी कुछ रंग मुहब्बत के मिला दे जाना।।
तेरी तस्वीर बनाई है फ़लक पर मैंने।
मांग में चाँद सितारों को सजा दे जाना ।।
बे खुली में न रहे आलम ए हस्ती का ख्याल ।
तु भी औरों की तरह मुझ को भुला दे जाना।।
हम तो हैं खाक ए नशीं अर्श को छुने वाले ।
अज़मतें और मुहब्बत की बढ़ा दे जाना ।।
अपने दर से तेरे घर तक का सफर करना है।
दूर से तु मुझे आवाज़ लगा दे जाना ।।
मेरी तख्लिक़ तेरे से मंसूब   हुई     ।
बज्म दुनिया में ग़जल मेरी सुना दे जाना ।।
-------------


Sent from my Samsung Galaxy smartphone.

No comments:

विशिष्ट पोस्ट

सामान्य(मुस्लिम)जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को हटाने से संबंधित निर्णय को वापस ले सरकार वरना सड़क से लेकर संसद तक होगा आंदोलन :- मोहम्मद कमरे आलम

आठ वर्षों से कार्य कर रहे सामान्य मुस्लिम जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को एक झटके में बिहार सरकार द्वारा सेवा से यह कह कर हटा दिया...