Click here online shopping

Saturday, April 30, 2016

मजदूरो का दिवस और हमारी जिम्मेदारियाँ

निकहत प्रवीन

7042293794
मजदूर दिवस पर विशेष लेख

"सरकार ठेका मजदूरी( नियमन औऱ उन्मूलन) केंद्रीय कानुन के 25वें कानून मे संशोधन करने जा रही है, इस संशोधन से प्रत्येक ठेका मजदुर को हर महीने 10 हजार रुपये मिल पाएगे"। ये वाक्य हैं देश के श्रम एंव रोजगार मंत्री बंडारु दत्तात्रेय का जिन्होने मजदुरो की स्थिति मे सुधार लाने के लिए इस कार्य को आगे बढ़ाने का भरोसा हम सब मजदुरो को दिलाया है जी हाँ आज मजदुर दिवस के अवसर पर देश के रोजगार मंत्री की इन बातो को याद करना उन सबके लिए आवश्यक है जो मजदुर वर्ग की श्रेणी मे आते हैं हालांकि अक्सर मजदुर शब्द से हम- तपती धुप मे नंगे पांव किसी बोझ को ढोते या खिंचते हुए, या किसी फैकट्री मे बड़ी- बड़ी मशीनो को परेशान हाल मे चलाते हुए, या फिर किसी और के खेतो मे अपने परिवार का पेट पालने के लिएसूरज निकलने से लेकर डुबते समय तक कड़ी मेहनत करते हुए गरीब मजदूर किसान जैसीछवी मन मे बना लेते हैं जबकि मजदूर की परिभाषा को जानने की कोशिश करे तो मालुम होता है कि " कोई भी ऐसा व्यक्ति जो उसकी श्रम शक्ति को बेचकर अपना रोजगार कमाता है, वह मजदूर है। दुसरी परिभाषा के अनुसार मजदूरी का अर्थ सेवा है, सेवा प्रदान करने वाला व्यक्ति मजदूर होता है। ये परिभाषा साफ तौर पर बताती है कि किसी अन्य व्यक्ति के अंतर्गत काम करने वाला दुसरा व्यक्ति चाहे काम करने की जगह सड़क हो, खेत हो,फैकट्री हो, या कोई शानदार ऑफिस सब मजदूर की ही श्रेणी मे आते हैं क्योंकि प्रतेयक माह के अंत मे वो अपने मालिक द्वारा दिए जाने वाले वेतन के लिए उनपर निर्भर हैं ऐसे मे मजदूर दिवस की महत्वपूर्णतः हमारे देश केलोगो के लिए और भी बढ़ जाती है जहाँ की अधिकतर आबादी किसी न किसी प्रकार की नौकरी अर्थात मजदूरी द्वारा जीवनयापन कर रही है बावजुद इसके हममे से ज्यादातर लोग मजदूर दिवस के इतिहास औऱ इसकी महत्वपूर्णतः से अंजान है, दरअसल इस दिनकी शुरुआत 1886 में शिकागो में उस समय हुई जब मजदूर मांग कर रहे थे कि काम की अवधि आठ घंटे हो और सप्ताह में एक दिन की छुट्टी हो। इस हड़ताल के दौरान एक अज्ञात व्यक्ति ने बम फोड़ दिया और बाद में पुलिस फायरिंग में कुछ मजदूरों की मौत हो गई, साथ ही कुछ पुलिस अफसर भी मारे गए। इसके बाद 1889 में पेरिस में अंतरराष्ट्रीय महासभा की दित्तीय बैठक में जब फ्रेंच क्रांति को याद करते हुए एक प्रस्ताव पारित किया गया कि इसको अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस के रूप में मनाया जाए, उसी समय से दुनिया के 80देशों में मई दिवस को राषट्रीय अवकाश के रूप में मनाया जाने लगा।  हमारे देश में पहली बार मजदूर दिवस 1923 में मनाया गया जिसका सुझाव सिंगारवेलु चेट्टीयार नाम के एक कम्यूनिस्ट नेता ने दिया उनका कहना था कि "दुनिया भर के मजदुर इस दिन को मनाते हैं तो भारत मे भी इसकी शुरुआत की जानी चाहिए"। इस संबध मे राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने कहा था" किसी देश की तरक्की उस देश के कामगारो और किसानो पर निर्भर करती है"।परंतु वर्तमान समय की स्तिथि पर नजर डाला जाए तो स्पष्ट होता है कि हमारे देश केकामगरो की स्तिथि संतोषजनक नही है और हो भी कैसे हममे से अधिकतर मजदुर वर्ग की श्रेणी मे तो जरुर हैं लेकिन एक मजदुर होने के नाते हमे अपने अधिकारो और उत्तरदायित्वका कोई ज्ञान नही जबकि हमे मालुम होना चाहिए की हर साल मजदुर दिवस के अवसर पर सरकार की ओर से कई प्रकार की योजनाएँ मजदुरो के उत्थान के लिए बनाई जाती हैं और कुछ सुविधाएँ पहले से भी मौजुद हैं उदाहरण कल कारखानो मे काम करने वाले मजदूरो की अगर किसी दुर्घटना के दौरान मौत हो गई तो सरकार की ओर से एक लाख और स्थाई विकलांगता पर 75 हजार रुपये तथा भवन एवं अन्य सन्निर्माण प्रकियाओ मे कार्यरत मजदुरो के मेधावी बच्चो को शिक्षा के प्रति प्रोत्साहित करने के लिए मेधावी छात्र पुरुस्कार के तौर पर दो से बारह हजार रुपये तक मिलते हैं साथ ही पुत्री विवाह के लिए अनुदान स्वरुप बीस हजार रुपये तथा आवास के लिए पैंतालीस हजार रुपये दिए जाने का प्रावधान है। ये सारी सुविधा मजदूर वर्ग के लिए ही है लेकिन जागरुकता की कमी के कारण अधिकतर अपने अधिकारो से वंचित रह जाते हैं ऐसे मे हम सबकी ये जिम्मेदारी है कि हम इन योजनाओ की जानकारी से खुद भी अवगत हो और दुसरो को भी इसके प्रति जागरुक करें ताकि आने वाले समय मे फिर किसी कार्ल मार्क्स को मजदुरो के अधिकार के लिए "दुनिया के मजदुरो एक हो"का नारा न देना पड़े।

अशरफ स्थानवी का मुस्लिम मतदाताओं से विशेष आग्रह

बिहार पंचायत राज चुनाव २०१६, १० चरणों में होना है पहला चरण पूरा कर लिया गया शेष ९ चरणों में चुनाव होना है ये चुनाव होना है ,पंचायती राज व्यवस्था का मुख्य उद्देश्य है ग्रामीणों का विकास, सशक्तिकरण, पंचायतो का विकास ग्राम वासियों के माध्यम से हम अपने विकास का मार्ग प्रशस्त्र कर सकते हैं , अल्पसंख्यक मतदाताओं से विशेष आग्रह है कि कृपया कर पंथीय , जातीय मतभेद को भुला कर अल्पसंख्यक हितेषी उम्मीदवार को मुखिया , सरपंच और पंचायत समिति सदस्य निर्वाचित करें, विगत २०११ में संपन्न हुए पंचायत चुनाव में 8463 मुख्या में से मात्र 518 मुखिया ही निर्वाचित हो सके थे, हमारा प्रयास हो के भरी संख्या में अल्पसंख्यक समुदाय के लोग पंचायत राज वयवस्था में निर्वाचित हों -

मुत्तहिद हो तो बदल दोगे निज़ाम-ए-आलम
मुंतशिर हो तो मरो, शोर मचाते क्यों हो !

अशरफ अस्थानवी

مسلم رائے دہندگان سے خصوصی اپیل
بہار پنچایتی انتخاب 2016 جاری ہے ۔ 10 مرحلوں میں ہو نے والا اس انتخاب کا پہلا مر حلہ گزر چکا ہے۔ بقیہ9 مراحل میں الکشن ہو نے ہیں ۔ گذشتہ 2011 کے پنچایت انتخابات میں 8463 مکھیا کے عہدے پر محض 512 مسلم امید وار کامیاب ہو سکے تھے۔ 22بلاک پرمکھ اور 4 اضلاع کے ضلع پریشد چیئر مین مسلمان منتخب ہوئےتھے جو کہ آبادی کے تناسب میں بہت کم ہے ۔ براہ کرم مسلکی ، نظریاتی اور ذات پات کے اختلافات کو فراموش کر کے کلمہ وحدت کی بنیاد پر متحد ہو کر ملی جذبے سے سرشار صاف ستھرے شبیہہ کے امید وار کو منتخب کر کے اپنا ملی فریضہ انجا م دیں ۔ ملی رہنمائوں اور ائمہ مساجد سے گذارش ہے کہ وہ اس اہم موضوع پر ملت کی رہنمائی کریں ۔
متحد ہو تو بدل دوگے نظام عالم
منتشر ہو تو مرو شور مچاتے کیوں ہو
اشرف استھانوی

Friday, April 29, 2016

अमरेन्द्र पाठक ने लिया बीईओ का अतिरिक्त प्रभार

प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी डुमरा श्री अमरेन्द्र कुमार पाठक ने परिहार के अतिरिक्त प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी का प्रभार ग्रहण किया है ।
            प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी परिहार के आदेशानुसार दिनांक  04-05-2016 को सभी CRCC एवं BRCC के बैठक का आयोजन किया गया है ।जिसमे सभी CRCC  बैठक में अनिवार्य रुप से  उपस्थित रहेंगे ।

Thursday, April 28, 2016

तीन नशेरी जेल भेजे गए

मो○दुलारे
--------------
परिहार-सुबे के मुख्यमंत्री का फरमान किसी भी कीमत पर थानेदारो की लापरवाही बरदास्त नही थाना क्षेत्र मे गड़बड़ी हुई तो दस साल तक उनको किसी थाना मे पोस्टींग नही किया जायेगा इस लीए थानेदार भी कोई रीश्क मोल नही लेना चाहते थानेदार के साथ बीडीओ भी नशेबाज को जेल भेज रहे है बुधवार की देर शाम थानाध्यक्ष वाहन चेकिंग मे थे तभी एक वाईक पैशन प्रो जिसका नं-डी एल55/5142पर दोनो सवार नशे के हालत मे  थाना क्षेत्र के   नोनाही गाँव निवासी रामवीर सिंह का पुत्र प्रवीण कुमार व बालेश्वर सिंह का पुत्र राधेश्याम   धराया वही शराब पी कर रोड का शहनशाह बनने पर बेतहा निवासी स्व-हनीफ अंसारी का पुत्र मुस्तफा अंसारी गिरफ्तार हुआ है तीनो को उत्पाद अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर न्यायीक हिरासत भेज दिया ।

Tuesday, April 26, 2016

भूरी बिल्ली- महज़बीं

लगभग 6, 7 साल पहले हमारे मुहल्ले में एक बिल्ली थी.. भूरे रंग की.. क्या निडर बिल्ली थी.. और बहादुर भी थी.. शुरू शुरू में जब हमारे मुहल्ले में आई थी.. तो, उसके आतंक से सारा मुहल्ला परेशान था.. गुर्राती थी सब पर.. कभी - कभी छत पर खेलते बच्चों को पंज्जा भी मार देती थी.. एक बार शाम के वक्त मैं छत पर जा रही थी, जैसे ही मैं लास्ट सीढ़ी पर चढ़ी, उसने दिवार की ओट से निकलकर मुझ पर हमला किया.. मैं तेजी से अब्बा - अब्बा की चीखें मारती हुई नीचे उतरी.. अब्बा जी ने जल्दी से मेरी चीखें सुनकर मुझे अपने पिछे करके, उस बिल्ली को भगाया.. वो अक्सर छत पर बैठी रहती थी.. कभी किसी की छत पर, तो कभी किसी की छत पर, और मौका मिलते ही हमला करती थी.. आए दिन मुहल्ले में कोई न कोई बच्चा, उसके पंज्जो का शिकार हो जाया करता था... और दिन में गली में मटक - मटक कर, ठुमक - ठुमक कर चलती थी.. ऐसे जैसे मॉडल लड़कियां रैंप पर चलतीं हैं.. अगर कोई कुत्ता उसे देखकर उसके पिछे भौंकता हुआ भागता था.. तो भी नहीं डरती थी.. और कुत्ते पर गुर्राती थी.. जबर्दस्त तरीके से, भईया कुत्ता ही डर कर चला जाता था.. सभी गली मुहल्ले के लोग दंग रह जाते थे, यह देखकर.. सब आस - पास के सभी मुहल्लों में, फेमस हो गई थी वो भूरे रंग की निडर बिल्ली... कोई उससे पंगे नहीं लेता था.. कुत्तों ने भी हमारे मुहल्ले में आना जाना कम कर दिया था.. और हमारे घर में रोज दरवाजे पर से, बाईक पर कूदकर ऊपर छत पर जाती थी.. उसके पैरों के पंज्जो से बाईक की गद्दी फट जाती थी.. निशान पड़ जाते थे, मेरे भाई ने परेशान होकर बाईक पर मोटी चादर ढकना शुरू कर दिया था.. ऐसे ही मुहल्ले में उस बिल्ली का आतंक दो तीन साल चला.. हमारे कैलाश अंकल, वो फौजी थे.. अपने बेटे को भी फौजी बनाना चाहते थे.. लेकिन वो बिजनेस में रूची रखता था.. तो उसने बिजनेस ही को अपनी रोजी रोटी का ज़रिया बनाया.. फिर उन्होंने ठानी की अपनी दोनों बेटियों की शादी फौजी लड़कों से ही करूंगा .. भईया शादी ब्याह के मामले में बिरादरीवाद, क्षेत्रवाद तो सुना था.. हमारे कैलाश अंकल एक दूसरे ही तरीके का वाद चला रहे थे.. "फौजीवाद" उनकी बड़ी बेटी ने अपने सहकर्मी से शादी कर ली.. अंकल बड़े परेशान कि, ये फौजीवाद की विरासत आगे कैसे चलेगी.. दो बच्चों ने तो बगावत कर ली.. अब उनकी एक छोटी बेटी बची थी. तो अंकल ने उसे मना - मुनु कर उसकी शादी एक फौजी ख़ानदान में तय करी.. होने वाला दामाद भी फौजी ही था.. जिस दिन उनकी बेटी की बारात घर पर आई.. तो बारात में आदमियों के साथ फौजी कुत्ते भी तशरीफ लाए.. क्योंकी बारात फौजी ख़ानदान के यहां से आई थी.. इसलिए प्रदर्शन के लिए फौजी कुत्ते भी साथ में आए थे, ताक़ी सबको ये बात अच्छी तरह से पता चल जाए की बारात फौजियों के यहाँ से आई है.. बारत में जो दो तीन कत्ते आए थे भईया कुत्ते नहीं शेर थे.. भारी - भरकम, ऊंची हाइट वाले, खूंखार कुत्ते, मुहल्ले वालों ने सोचा आज अगर भूरी बिल्ली इन कुत्तों के सामने सड़क पर, या तंबू में कैटवॉक करने आ गई, तो उसकी खैर नहीं.. इनसे नहीं बच पाएगी.. नवीन भईया और एक दो लड़के बिल्ली से बहुत प्यार करते थे.. उन्हें बिल्ली पर रहम आया, और उन्होंने बिल्ली को बचाने के लिए ऐसा किया की, नवीन भईया के ऊपर वाले कमरे में बिल्ली के लिए छिछड़े ला कर रख दिये.. जैसे ही भूरी बिल्ली छिछड़े खाने कमरे में घुसी.. उन्होंने कमरा बंद कर दिया.. इस तरह बिल्ली काफी देर कमरे में बंद रही, तोड़ - फोड़ करती रही.. रात के 12 बजे क़रीब न जाने किसने जा कर ऊपर का कमरा खोल दिया.. और बिल्ली वहां से भाग गई.. और गली में निचे उतरकर, कैटवॉक💃💃�👯👯 करने लगी... वो घूम ही रही थी कि बरात में आए कुत्तों की नजर उसपर पड़ी.. बस क्या था बिल्ली उनसे भी नहीं डरी.. पिछे मुड़कर उन फौजी कुत्तों पर गुर्राई.. वो गली के कुत्ते थोड़ा ही थे, जो डर जाते.. एक एक करके झपट्टा  मारा उन तीनों कुत्तों ने..   बिल्ली पर.. बस दो तीन झपट्टों में ही बिल्ली की टैं बोलगई... न हड्डी टूटी न खून निकाला, और तीन ही झपट्टों में सीधे अल्लाह पुर पंहच गई.. अगले दिन हर कोई बिल्ली की अचानक हुई मौत पर हैरान था.. सब यही कह रहे थे कि कितनी निडर बिल्ली थी.. ऐसी बिल्ली कोई दूसरी नहीं देखी.. मर गई मरते - मरते भी नहीं डरी.. और फौजी कुत्तों के सामने कैटवॉक करने आ गई और मौत के घाट उतार दी गई। गली में  एक दो बच्चों ने उस बिल्ली की बॉडी पर गैंदे के फूल की माला डाल दी.. और ले जा कर पार्क में दफना दिया.. आज भी अगर कोई किसी भूरी बिल्ली को देखता है तो, 
वो निडर बिल्ली याद आ जाती है।

Wednesday, April 20, 2016

चिंगारी परिहार में प्रकाशित ख़बर का असर,ग्राम एकडंडी में जला ट्रांसफार्मर बदला गया

परिहार  (सीतामढ़ी ):-चिंगारी परिहार में प्रकाशित ख़बर का असर ग्राम एकडंडी में जला ट्रांसफार्मर आज 20/04/2016 को बदल दिया गया ।चिंगारी परिहार में 13/04/2016 को मैंने  "जले ट्रांसफार्मर को बदलने की मांग,अंशन की चेतावनी "शीर्षक से समाचार प्रकाशित किया था विद्युत विभाग ने इसे गंभीरता से लिया और जले हुए ट्रांसफार्मर को बदल दिया ।             मालूम होता कि एक्शन फाॅर जीरो टाॅलरेंस परिहार के संयोजक मो○ सउद आलम, राष्ट्रीय अध्यक्ष राकेश कुमार सिंह और महा सचिव मो○कमरे आलम ने प्रधान सचिव, निदेशक सह प्रबंध निदेशक अध्यक्ष विद्युत आयोग बिहार पटना को ईमेल शिकायत कर अविलम्ब ग्राम एकडंडी में जले ट्रांसफार्मर को बदलने की मांग की थी अन्यथा अंशन की चेतावनी दे रखी थी।

Friday, April 15, 2016

साधन सेवी को भ्रष्टाचार उजागर करना पड़ा महंगा, किए गए निलंबित

परिहार प्रखणड के विभिन्न विद्यालयों में प्रखणड शिक्षा पदाधिकारी परिहार और प्रधानाध्यापक के स्तर से की गई गड़बड़ी को उजागर करना प्रधान साधन सेवी मो○हैदर अली को महंगा पड़ा ।प्रखणड शिक्षा पदाधिकारी परिहार के इशारे पर विद्यालय के प्रधानाध्यापकों, संघों की बैठक कर गलत गलत आरोपों से सम्बंधित प्रस्ताव पारित कर वरीय पदाधिकारी से शिकायत की गई थी और शिकायत के जाॅच की जिम्मेदारी भ्रष्टाचार में लिप्त प्राथमिकी अभियुक्त प्रखणड शिक्षा पदाधिकारी परिहार को दी गईं थी ।प्रखणड शिक्षा पदाधिकारी परिहार ने बदले की कार्रवाई की और कलम तोड़कर हैदर अली के विरुद्ध लिखा परिणाम सामने है हैदर अली को निलंबित कर दिया गया है।

Wednesday, April 13, 2016

परिहार में भूकंप के झटके महसूस किए गए

परिहार /दिल्ली: दिल्ली और एनसीआर में भूकंप के झटके महसूस किये गये हैं. बिहार के पटना, मुजफ्फरपुर ,सीतामढ़ी के परिहार ,पश्चिम बंगाल के कुछ इलाके में भी महसूस किये गये हैं. लोग घरों से बाहर निकल गये हैं. 7.28 मिनट पर दो बार भूकंप के झटके लगे हैं. पूरे असम में बिजली सेवा ठप कर दी गई है. एनडीआरएफ की तरफ से बताया गया है कि कहीं से कोई जानमाल का नुकसान नहीं हुआ है. भारत और म्यांमार की सीमा पर भूकंप का केंद्र बताया जा रहा है. गुवाहाटी में भी भूकंप के झटके महसूस किये गये हैं. रिक्टर स्केल पर 6.8 इसकी तीव्रता मापी गई है. कोलकाता में मेट्रो थोड़ी देर के लिए रोक दी गई थी. लोग काफी दहशत में आ गए. भूकंप से जान-माल की नुकसान की कोई खबर नहीं है. नेपाल के पूर्वी इलाके में भी आए भूकंप के झटके. कोलकाता मेट्रो स्टेशन की दीवारों में दरार आ गई है.
इसके झटके पूर्वोत्तर राज्यों के अलावा, पश्चिम बंगाल, बिहार और देश के अन्य हिस्सों में भी महसूस किए गए. राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र के अनुसार भूकंप शाम में सात बजकर 25 मिनट पर आया और इसकी गहराई 134 किलोमीटर थी. भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 6.8 दर्ज की गयी.
सिक्किम, सिलिगुड़ी, कोलकाता से भूकंप की वजह से कोई जानमाल का नुकसान नहीं है।

जले हुए ट्रांसफार्मर को बदलने की मांग,अंशन की चेतावनी

परिहार  (सीतामढ़ी ):-ग्राम एकडंडी में लगा ट्रांसफार्मर 11/04/2016 को जल जाने से पुरा गाँव विगत कई दिनों से रात होते ही अंधकार में डूब जाता है सिलसिला पाॅवर ग्रीड से लेकर कनिय अभियंता तक शिकायत दर्ज करा दी गई है मगर अभी तक ट्रांसफार्मर नही बदला गया है गर्मी के दिनों में  विद्युत नहीं होने से उपभोक्ताओं में काफी बेचैनी है। एक्शन फाॅर जीरो टाॅलरेंस के संयोजक मो○सउद आलम राष्ट्रीय अध्यक्ष राकेश कुमार सिंह माह सचिव  मो○कमरे आलम ने प्रेस ब्यान जारी कर अविलम्ब ट्रांसफार्मर बदलने की मांगलिक कार्यपालक अभियंता विद्युत सीतामढ़ी और प्रबंध निदेशक पटना से किया है अन्यथा आंदोलन करने की बात की है।

Tuesday, April 12, 2016

शिक्षक की असामयिक मृत्यु

परिहार  (सीतामढ़ी ):- म0 वि0 बेला मच्छपकौनी के प्रधानाध्यापक श्री हरि नारायण मंडल का आज असामयिक निधन हो गया ।

Sunday, April 10, 2016

कोर्ट से जमानत पर रिहा व्यक्ति को 10 घंटे तक थाना हाजत में बंद रखा

परिहार  (सीतामढ़ी ):-थाना कांड संख्या 162/12 के अभियुक्त मो○मुस्तफा उर्फ जुम्मन जो कोर्ट से जमानत करा चुके थे उनको 10/4/2016 रात्रि को केस के अनुसंधानकर्ता सब इंस्पेक्टर प्रमोद कुमार सिंह पुलिस जवानों के साथ घर पर धावा डाल कर गिरफ्तार कर लिया और परिहार थाना हाजत में 10घंटे तक बंद रखने के बाद दिन के 11.00 बजे छोड़ा।
            गिरफ्तारी के समय अभियुक्त ने अनुसंधानकर्ता को कहा भी कि मैं कोर्ट से जमानत करा चुका हूँ और आत्म समर्पण -पत्र थाने को दे चुका हूँ इतना ही नहीं आत्म समर्पण पत्र की छाया प्रति भी पेश किया लेकिन कोई असर नहीं हुआ और थाना हाजत में अकारण 10घंटे तक बंद रखा गिरफ्तारी में पुलिस मेनुअल का भी ख्याल नही रखा गया नियमत: गिरफ्तारी गवाह के समक्ष की जाती है मगर ऐसा नही किया गया ।अनुसंधानकर्ता ने पुलिस मेनुअल का उल्लंघन के साथ आम नागरिक को प्राप्त मानवाधिकार का हनन भी किया गया है क्योंकि अकारण थाना हाजत में बंद रखना मानवाधिकार का खुला उल्लंघन है।

Thursday, April 07, 2016

परिवर्तनकारी प्रारंभिक शिक्षक संघ प्रखंड इकाई - परिहार ने किया प्रारंभिक शिक्षक संघ से इस्तीफा की मांग

  परिवर्तनकारी शिक्षक संघ के संयोजक मो○जौहर अली ने प्रारंभिक शिक्षक संघ के पदाधिकारीओ से इस्तीफा की मांग करते हुए कहा है कि एक तरफ बिहार सरकार शिक्षा विभाग शिक्षकों के वेतन पर इतनी सख्त हो चुकी है कि आलाधिकारीयो को भी फटकार सुननी पड़ रही है वहीं हमारे सीतामढ़ी के परिहार प्रखंड में बिहार पंचायत प्रारंभिक शिक्षक संघ अपने बहुल संख्या का राग अलाप कर पूरी तरह गंदी राजनीति कर रहे हैं । पदाधिकारियो के  कोशिशों के बाद पूरे जिले में नियोजित शिक्षकों का वेतन जारी किया जा रहा है वहीं परिहार के शिक्षकों को वेतन से दूर रखा जा रहा है, क्योंकि शिक्षकों के वेतन से सम्बंधित नेगेटिव सूची अब तक जिले को नहीं सौंपी गई है जिससे परिहार प्रखंड के शिक्षकों को वेतन मिलने में देरी होने की समस्या उत्पन्न हो रही है।
    आगे सवाल खड़ा करते हुए कहा है कि आप कैसी राजनीति कर रहे हैं।एक तरफ शिक्षकों के साथ भुखमरी की स्थिति  है वहीं दूसरी ओर आप सभी शिक्षकों से चंदा के नाम पर प्रति माह दो - दो सौ रूपये की उगाही कर रहे हैं ? और अब तक कई वर्षों का हिसाब भी  नहीं दे रहे हैं।यदि आपसे शिक्षकों का वेतन भुगतान नहीं हो पा रहा है तो आप अपने पद से तुरंत इस्तीफा दे। मैं  दो दिनों के अंदर वेतन भुगतान करवा दूंगा ।
ये शिक्षक संघ के नेता अपने पद से इस्तीफा नहीं देंगे क्योंकि ये संघ को कमाई का रास्ता समझते हैं।परिहार प्रखंड के तमाम शिक्षकों को वेतन भुगतान के लिए ऐसे शिक्षक संघ का कड़ा विरोध करनी चाहिए ।

Monday, April 04, 2016

ट्रक से कुचल कर मोटरसाइकल सवार की घटना स्थल पर मौत

सीतामढ़ी परिहार से भिस्वा जाने वाली सड़क में हाई स्कूल के निकट संध्या 7बजे ट्रक से कुचल कर मोटरसाइकल सवार की मौत घटना स्थल पर ही हो गई मृतक मोहम्मद कौसर अली अंसारी पिता अब्दुल कादिर अंसारी इन्दरवा का रहने वाला था।

गरीब लोगो के लिए निःशुल्क चिकित्सा शिविर का आयोजन

निकहत प्रवीण 
------------------
(3-4-2016)
बिहार की राजधानी पटना के राजा बाजार मे स्थित डिवाइन हॉस्पीटल की ओर से फुलवारी शरीफ खलीलपुरा के फैसल गार्डन कैंपस मे 3 अप्रैल 2016 को सुबह 8 से 1 बजे तक गरीब लोगो के लिए निःशुल्क चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया। कार्यक्रम मे डिवाइन हॉस्पीटल के डायरेक्टर डॉ अनिल कुमार के अतिरिक्त डॉ निशीकान्त कुमार( संयुक्त प्रतिस्थापन सर्जन, पारस एच0 एम0 आर0 आई,पटना), डॉ नीरज भट्ट (सलाहकार सर्जन, पारस, एच0 एम0 आर0 आई,पटना), डॉ फरीद आलम (किडनी रोग विशेषज्ञ, पूर्व रजिस्ट्रार, आई0 जी0 आई0 एम0 एस, पटना), डॉ अरशद एस-हक (दंत चिकित्सक),श्रीमती मंजु सिन्हा (सामाजिक काउंसलर) जैसे अन्य कई डॉक्टरो ने भाग लिया। कार्यक्रम के संचालक मौ0 मोशिर आलम ने बताया कि इस शिविर मे लगभग 500 से भी ज्यादा लोगो ने हिस्सा लिया लोग पुरे उत्साह के साथ हमारी टिम पर भरोसा कर यहाँ तक आए ये हमारे लिए बड़ी बात है कुछ मूलभूत जांच के बाद सभी के बीच उनकी जरुरतो के मुताबीक आइरन, विटामीन,और एंटीबायोटिक दवाओं का वितरण किया गया ताकि उन्हे स्वस्थ रखने मे हम थोड़ा कामयाब हो सके। 

विशिष्ट पोस्ट

सामान्य(मुस्लिम)जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को हटाने से संबंधित निर्णय को वापस ले सरकार वरना सड़क से लेकर संसद तक होगा आंदोलन :- मोहम्मद कमरे आलम

आठ वर्षों से कार्य कर रहे सामान्य मुस्लिम जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को एक झटके में बिहार सरकार द्वारा सेवा से यह कह कर हटा दिया...