Click here online shopping

Friday, December 30, 2016

नज़्रे खुर्शीद

क़ासिम खुर्शीद
-------------------
कभी - कभी मैं सोचने लगता हूँ कि अब तक मैंने ऐसा कुछ भी नहीं किया है जो मेरी नज़र में अविस्मरणीय हो  ! मगर हम से बेहतर लोगों की बेपनाह दस्तावेज़ी मुहब्बतें मिलती हैं तो आँखों में नमी आ ही जाती है ।तारीख़ी शहर मुंगेर में गुज़स्ता रोज़ एक प्रोग्राम का मुझे चीफ़ गेस्ट बनाया गया था उस मंच पर उर्दू के बड़े शायर प्रो○ राशिद तराज़ भी थे । कल उन्होंने ख़बर दी कि एक बड़े पत्र में आप पर मेरी तहरीर छपी है ।राशिद तराज़ के ख़ुसूसी शुक्रिए के साथ आप के लिए भी उन की ये तहरीर।

No comments:

विशिष्ट पोस्ट

सामान्य(मुस्लिम)जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को हटाने से संबंधित निर्णय को वापस ले सरकार वरना सड़क से लेकर संसद तक होगा आंदोलन :- मोहम्मद कमरे आलम

आठ वर्षों से कार्य कर रहे सामान्य मुस्लिम जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को एक झटके में बिहार सरकार द्वारा सेवा से यह कह कर हटा दिया...