Click here online shopping

Sunday, January 01, 2017

काम की बातें

दुनिया की हकीकत देखनी है तो आॅखों पर पट्टी बाॅध कर देखों -इस दुनिया को अंधा बन कर बेहतर देख सकते हो।

मेहनत की रूखी सुखी खाने में जो मजा है वो चोरी चकारी से हासिल मुर्ग मुसल्लम में नहीं है ।

मर्द से बड़ा भेड़िया कोई नही होता, इंसान जानवर से ज्यादा बेरहम होता है।

नेता अपनी कारगुजारी दिखाने के लिए भीड़ जमा करते हैं और सरकार से भीड़ के लिए नही अपने लिए माँगतें हैं कि देख मेरे साथ कितने लोग है, मुझे भी कुर्सी दो,पैसा दो,ताकत दो।

पेड़ लगाकर नही तो पढ़ लिखकर अपने वक्त का इस्तेमाल करो तो ज्यादा सुख मिलेगा -सुअर की तरह हांक कर गलियों में ले जाए जाने पर कैसा सुख मिल सकता है ?।

No comments:

विशिष्ट पोस्ट

सामान्य(मुस्लिम)जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को हटाने से संबंधित निर्णय को वापस ले सरकार वरना सड़क से लेकर संसद तक होगा आंदोलन :- मोहम्मद कमरे आलम

आठ वर्षों से कार्य कर रहे सामान्य मुस्लिम जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को एक झटके में बिहार सरकार द्वारा सेवा से यह कह कर हटा दिया...