Click here online shopping

Thursday, February 02, 2017

इन्साफ पशंदों बिहार के बीहड़ से बलात्कार पीड़िता की माँ इन्साफ की आवाज़ लगा रही है

मुस्तकीम सिद्दीकी
----------------------------
मैं काजल की माँ हूँ , मैं नेत्रहीन एवं मजदूर हूँ , मैं बिहड़ में रहती हूँ , मेरी 8 साल की बेटी का ब्लात्कार कोसी नदी की तट पर सूर्य की रौशनी में मेरी झोपड़ी के सामने मकई के खेत के पास हुआ है , मैं गरीब हूँ , मैं कमजोर हूँ , मैं अकेली हूँ l

ब्लातकार करने वाला ठाकुर , दबंग और ज़मींदार है l ब्लात्कारी शक्तीशाली एवं राजनीतिक पकड़ वाला है , ब्लात्कारी एवं उसका पुरा समुदाय मेरी बेटी की ब्लातकार को झुटा साबित करने की लिये शासन एवं प्रशासन का साथ ले रहा है l

आजतक पुलिस हमारे घर पर जाँच पड़ताल के लिये नही आई , आजतक पुलिस ब्लात्कार के ज़गह पर बहे खुन को उठा कर नही ले गई , आजतक पुलिस ब्लात्कारी को गिरफतार नही कीl

बिहार सरकार , जनप्रतिनिधी एवं पुलिस ब्लात्कारी का साथ दे रही है , मैं समाज के ज़िम्मादार नागरिक , स्वंय सेवी संगठन , समाजिक संगठन , मानवधिकार संगठन, समाजिक कार्यकर्ता से अपील करती हूँ के एक नेत्रहीन, गरीब , मजदुर , असहाय माँ की 8 साल की बेटी के ब्लात्कारी को सजा दिलाने आगे आयें l

No comments:

विशिष्ट पोस्ट

सामान्य(मुस्लिम)जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को हटाने से संबंधित निर्णय को वापस ले सरकार वरना सड़क से लेकर संसद तक होगा आंदोलन :- मोहम्मद कमरे आलम

आठ वर्षों से कार्य कर रहे सामान्य मुस्लिम जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को एक झटके में बिहार सरकार द्वारा सेवा से यह कह कर हटा दिया...