Click here online shopping

Monday, March 13, 2017

रंग

मेहजबीं
________
रंग हैं प्यार के....रंग हैं दुलार के
रंग हैं बहार के...रंग हैं फुहार के
रंग में रंगी चुनरिया.. उनके दिदार से
रंग में रंगी ज़िंदगी ... उसके इज़हार से।

रंग ही रंग हैं
इसमें, उसमें, मुझमें, तुझमें, सब में
नज़र में रंग हैं ... जिगर में रंग हैं
बेरंग है ज़िंदगी.... जहाँ नज़र तंग है।

अगर प्यार के संग घुले रंग
सुर्ख़, सब्ज़, ज़र्दी, केसरी, गुलाबी
फिर बने सुबह-ओ-शाम शराबी
रंग की रंगोली..... रंग की बोली
रंगों से बने प्यारी... रंगों से बने रसीली
रंगों से बने न्यारी....रंगों से बने रंगीली  
तेरी होली मेरी होली...हम सबकी होली।

-मेहजबीं

No comments:

विशिष्ट पोस्ट

सामान्य(मुस्लिम)जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को हटाने से संबंधित निर्णय को वापस ले सरकार वरना सड़क से लेकर संसद तक होगा आंदोलन :- मोहम्मद कमरे आलम

आठ वर्षों से कार्य कर रहे सामान्य मुस्लिम जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को एक झटके में बिहार सरकार द्वारा सेवा से यह कह कर हटा दिया...