Thursday, March 23, 2017

प्रदर्शनकारी शिक्षकों पर लाठीचार्ज घोर तानाशाही की निशानी है - वंशीधर ब्रजवासी

अपनी मांगों के समर्थन में प्रदर्शन कर रहे हमारे साथियों पर लाठीचार्ज सरकार की दमनकारी नीति और घोर तानाशाही की निशानी है । हम इस दमनात्मक कार्रवाई की घोर निंदा करते हैं । सरकार को चेताना चाहते हैं कि सरकार समान काम के लिए समान वेतन और पुरानी सेवाशर्त के अधीन हमारी सेवा सामंजित करने की घोषणा अविलम्ब करे अन्यथा उग्र आंदोलन झेलने को तैयार रहे । लोकतंत्र मान - मर्यादा और हया शर्म से चलता है ।लेकिन बिहार सरकार को शर्म नाम की चीज नहीं है । 3 माह में सेवा शर्त बनाने की अधिसूचना के डेढ़ वर्ष बाद भी उसका अनुपालन नहीं हुआ । शिक्षक भूखे हैं ।भूखों के आक्रोश को शांत करने के लिए भोजन की व्यवस्था करनी होती है । डण्डा से उन्हें छेड़ना खतरनाक सिद्ध होगा । बिहार सरकार की उल्टी गिनती शुरू होने वाली है । हम सभी आंदोलनकारी साथियों के साथ हैं ।स्थिति की नजाकत को देखते हुए सारे शीर्ष नेता हड़ताल की घोषणा करें या जो भी निर्णय लेंगे , परिवर्तनकारी प्रारम्भिक शिक्षक संघ हर परिस्थिति में आपके साथ रहेगा।
     

No comments:

विशिष्ट पोस्ट

सामान्य(मुस्लिम)जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को हटाने से संबंधित निर्णय को वापस ले सरकार वरना सड़क से लेकर संसद तक होगा आंदोलन :- मोहम्मद कमरे आलम

आठ वर्षों से कार्य कर रहे सामान्य मुस्लिम जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को एक झटके में बिहार सरकार द्वारा सेवा से यह कह कर हटा दिया...