Saturday, January 21, 2017

प्रखण्ड विकास पदाधिकारी व प्रखण्ड शिक्षा पदाधिकारी परिहार के कुशल नेतृत्व में शराब बन्दी मानव श्रृंखला सफल /परिहार प्रखणड के 74 कि•मी•में बना मानव श्रृंखला

प्रखण्ड विकास पदाधिकारी परिहार निरंजन कुमार और प्रखण्ड शिक्षा पदाधिकारी परिहार रामसेवक राम के कुशल नेतृत्व में परिहार प्रखण्ड में शराब बन्दी मानव श्रृंखला पूरी तरह कामयाब रहा।मानव श्रृंखला की कामयाबी के लिए दोनों पदाधिकारियों ने रात दिन एक कर रखा था बेहतर समन्वय के कारण यह अभियान सफल रहा। मानव श्रृंखला की सफलता का श्रेय प्रखण्ड विकास पदाधिकारी और प्रखण्ड शिक्षा पदाधिकारी परिहार को जाता है।प्रखण्ड स्थित सभी विद्यालयों के शिक्षकों, छात्र छात्रओं, टोला सेवक, तालिमी मरकज़, विकास मित्र, आशा, जीविका, आँगन बाड़ी सेविका सहायिका, रसोईया, प्रेरक और प्रखण्ड लोक शिक्षा समिति साक्षरता के कर्मियों ने अपने अपने जिम्मेदारियों का निर्वहन बखूबी निभाया।

परिहार प्रखणड के 74 कि•मी•में मानव श्रृंखला का निर्माण कर सीतामढी में रिकार्ड स्थापित किया है परिहार के इस मानव श्रृंखला में सरकारी आंकड़ा के मुताबिक 162800 एक लाख बासठ हजार आठ सौ लोगों ने भाग लेकर मानव श्रृंखला के सहभागी बने।

प्राथमिक विद्यालय एकडंडी उर्दू कन्या के छात्र, शिक्षक एवं अभिभावकों ने लिया इंसानी जंजीर में बढ़ चढ़ कर हिस्सा

माननीय मुख्यमंत्री बिहार नीतीश कुमार के आह्वान पर 21 जनवरी 2017 को प्राथमिक विद्यालय एकडंडी उर्दू के छात्र शिक्षकों एवं अभिभावकों ने इंसानी जंजीर में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया।इंसानी जंजीर में तालिमि मरकज़ के मोहम्मद कमरे आलम ने भी अपनी ज़िम्मेदारी का निर्वहन बखूबी निभाते हुए नज़र आए, इंसानी जंजीर की सफलता के लिए प्रखण्ड कार्यक्रम समन्वयक अर्चना कुमारी व प्रखण्ड लेखा समन्वयक दुःखा बैठा ने कड़ी मेहनत की और जोनल कोऑर्डिनेटर के रूप में सुबह 10:00 बजे से ही सरगर्म दिखाई देती हुई नज़र आईं।

Friday, January 20, 2017

कोर्ट ने दिया सशर्त मानव श्रृंखला निर्माण की हरी झणडी

पटना उच्च न्यायालय ने आज बिहार सरकार की ओर से 21 जनवरी को शराबबंदी और नशामुक्ति के प्रति लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से प्रस्तावित मानव श्रृंखला में स्कूली बच्चों को जबर्दस्ती शामिल होने के लिए बाध्य नहीं करने और यातायात बाधित नहीं होने से संबंधित शपथ दिये जाने के बाद कार्यक्रम को आयोजित करने के लिए इजाजत दे दी।


उच्च न्यायालय के कार्यकारी मुख्य न्यायाधीश हेमंत गुप्ता और सुधीर कुमार सिंह की खंडपीठ ने राज्य सरकार को मानव श्रृंखला के दौरान बंद होने वाले मार्गों पर यातायात की वैकल्पिक व्यवस्था करने का आदेश सरकार को दिया है। खंडपीठ ने सरकार को कार्यक्रम के दौरान प्रभावित होने वाले मार्गों और वैकल्पिक मार्गों के संबंध में लोगों को जानकारी देने के लिए प्रचार-प्रसार करने का भी निर्देश दिया। अदालत ने प्रस्तावित कार्यक्रम के दौरान किसी भी परिस्थिति में यातायात बाधित नहीं होने देने का निर्देश देते हुए कहा कि इससे आम लोगों को काफी कठिनाईयों का सामना करना पड़ता है ।

इससे पूर्व अदालत ने गुरूवार को राज्य के प्रधान सचिव अंजनी कुमार सिंह और पुलिस महानिदेशक पी. के. ठाकुर को व्यक्तिगत रूप से खंडपीठ के समक्ष उपस्थित होकर मानव श्रृंखला में स्कूल बच्चों को शामिल करने के सरकार के आदेश के बारे में स्पष्टीकरण देने का निर्देश दिया था। साथ ही अदालत ने 21 जनवरी को बिहार में राष्ट्रीय राजमार्गों पर पांच घंटे तक यातायात ठप करने के प्रधान सचिव के आदेश पर भी कड़ी आपत्ति जताई और कहा था कि मानव श्रृंखला निर्माण के दौरान यातायात बाधित होने से आमलोगों खासकर बीमार लोगों को काफी दिक्क्तें होंगी।

महिला सशक्तिकरण और आरक्षण का दुरूपयोग

मोहम्मद सऊद आलम
-------------------------------
बिहार मे महिलाओं को पंचायत चुनाव मे 50% आरक्षण महिला सशक्तिकरण के नाम पर दिया गया ।
आज देखने वाली बात यह है कि कितनी %महिलाएं पंचायत के कामों मे अपना समय देती हैं ।महिलाएं जीतने के बाद मर्दों के जरिए घर के चहार दिवार मे क़ैद कर दी जाती हैं।और खाना बनाने का काम करती हैं और उनके अधिकार का निर्वहन उन के पति/पुत्र या अन्य के जरिए किया जाता है। जनता / पदाधिकारी के द्वारा पति /पुत्र या अन्य को ही मुखिया की उपाधि दे दी जाती है।
प्रखंड/ पंचायत स्तरीय बैठक मे महिला मुखिया के 99%पति मिनिट बुक पर पत्नी का दस्तखत करते हैं जो निर्वाचित महिला प्रतिनिधि के अधिकार का हनन है। पंचायत के आम सभा मे पति  अध्यक्षता करते हैं और वक्ता उन्हे ही मुखिया जी से सम्बोधित करते हैं ।क्या यही आरक्षण और महिला सशक्तिकरण है ?
मै बिहार के माननीय मुख्यमंत्री महोदय ,सीतामढी के ईमान्दार जिला पदाधिकारी महोदय और परिहार प्रखंड के ईमान्दार प्रखंड विकास पदाधिकारी महोदय से माँग करता हूँ कि अधिकार का हनन न  होने दिया जाये ।और निर्वाचित महिला प्रतिनिधि के अनुपस्थिति में सभा का नेतृतव करने वाले पति/पुत्र पर दंडात्मक कार्रवाई की जाए।
  मुझे पूर्ण आशा है ,मेरे इस छोटे से निवेदन पर  सहानुभूति पूर्वक विचार किया जायेगा ताकि आरक्षण का सही उपयोग हो सके ।

21 जनवरी को इंसानी ज़ंजीर प्रोग्राम को कामयाब बनाएं - एक्शन फ़ॉर जीरो टॉलरेंस

एक्शन फ़ॉर जीरो टॉलरेंस के संयोजक मोहम्मद सऊद आलम और प्रेसिडेंट राकेश कुमार सिंह ने शराब बन्दी और मुकम्मल नशा बन्दी की हिमायत में 21 जनवरी को बनने वाली इंसानी ज़ंजीर को कामयाब बनाने की अपील तमाम मेम्बरों से की है,और कहा कि बढ़ चढ़ कर हिस्सा लें ताकि इंसानी जंजीर बना कर बिहार विश्व कीर्तिमान स्थापित करने में सफल हो। इंसानी ज़ंजीर की कामयाबी के लिए मोहम्मद यूसुफ़, खुश रेज़ा, ज़ियाउल इस्लाम, मोहम्मद कमरे आलम ने भी अवाम से अपील किया।

शिक्षा विभाग डाल-डाल तो शिक्षक पात-पात

Report by Md Dulare
______________________
परिहार(सीतामढ़ी):-प्रखंड परिहार मे वर्ष 2016 शिक्षा विभाग के गबन घोटाला से ही पुरा साल व्यस्त रहा। इससे पुर्व एक दशक तक यह प्रखंड इंदिरा आवास के गबन घोटाला से प्रसिद्ध रहा ।अब तक जितने घोटाला प्रखंड मे हुये सब को शिक्षा विभाग का घोटाला बौना साबित कर दिया।अब तक करोड़ो का घोटाला सामने आ चुका है और बाकी भी है। परिहार प्रखंड के कुछ शिक्षक सातिर तो कुछ दबंग साबित हो रहे है अब तक के जाँच से खुलासा हुआ है कि छात्रवृत्ति, पोशाक एमडीएम मे लाँखो कि निकासी तो कि गई लेकिन वितरण शुन्य है।जिसमे प्राथमिक विधालय इन्दरवा ऊदु उत्तरी टोल निकासी 32.42लाँख ,उसी तरह प्राथमिक विधालय पासवान टोल रजवाड़ा मे 7.36लाँख तो मध्य विधालय बथुआरा मे 4.45लाँख का निकासी हुआ वितरण शून्य हुआ।दो विधालय मे विधालय प्रधान ने दबंगई दिखाते हुए जाँच पदाधिकारी को तो कोई अभिलेख तक नही दिखाया जिसमे मध्य विधालय मलाही,व मध्य विधालय लहुरीया सामील है। प्रखंड का एक विधालय ऐसा भी है जिसमे नामांकन बच्चो से ज्यादा को राशि का वितरण कर दिया जिसका कभी विधालय मे नामांकन ही नही हुआ था वो विधालय प्राथमिक विधालय जगदर है वही प्राथमिक विधालय रैनपुर टोल रामनैका के प्रधान खाता से राशि निकाल खुब मजे लुटा जब जाँच शुरु हुई तो राशि खाता मे जमा कर दिया ।अब बीईओ साहब इसमे पिछे कैसे रहे प्रखंड के एससी,एसटी, बीसी,व ईबीसी कोटि के बच्चो के लिए फर्जी माँग पत्र तैयार कर कल्याण विभाग को भेज राशि मगा बंदरबाट शुरु कर दिया ।और 14 स्कूल के प्रधान मोटी रकम निकासी कर बच्चो को लालीपाँप दिखा कुछ राशि का वितरण कर सभी राशि को गबन कर मालामाल बन गये ।

जो क़ौम अपनी तारीख़ भुला देती है उसका जुग्राफिया बाकी नही रहता

मुस्लिम नौजवानों को अपने अस्लाफ के कारनामों से सबक़ हासिल कर मुस्तक़बिल को रौशन बनाने की कोशिश करनी चाहिए।साथ ही साथ तरक़्क़ी के नये दौर में बे राह रवी का शिकार होने से बचनी चाहिए।जो क़ौम अपनी तारीख़ भुला देती है उस क़ौम का जुग्राफिया भी बाक़ी नही रहता।नई नस्ल को अपनी तारीख़ का ईल्म रखनी चाहिए और अपने आबा व अजदाद से रिश्ता बनाए हुए रखनी चाहिए।अपने आबा व अजदाद से बे रूखी हमें अपने तारीख़ और हक़ीक़त से दूर कर देती है।आज ज़रूरत इस बात की है कि हम अपने ताबनाक और रौशन तारीख़ का मुताला गहराई से करें अगर हम अपनी शानदार तारीख़ से अंजान रहेंगें तो हमारा मुस्तक़बिल तारिक़ हो कर रह जाएगा।

Thursday, January 19, 2017

शराब बन्दी मानव श्रृंखला को ले बीडीओ परिहार ने की साक्षरता कर्मिओ संग बैठक

शराब बन्दी, 21जनवरी 2017 के मानव श्रृंखला के सफलता को ले प्रखणड विकास पदाधिकारी परिहार निरंजन कुमार की अध्यक्षता में प्रखणड लोक शिक्षा समिति कार्यालय के प्रांगण में साक्षरता कर्मी की बैठक का आयोजन किया गया ।प्रखणड विकास पदाधिकारी ने साक्षरता कर्मी को मानव श्रृंखला से सम्बंधित महत्वपूर्ण जानकारी दी और प्रखणड में बनने वाले  रूट चार्ट की विस्तार पूर्वक जानकारी दी गई ।बैठक में  प्रखणड पंचायती राज पदाधिकारी, प्रखणड कार्यक्रम समन्वयक अर्चना कुमारी, केआरपी साक्षरता, प्रखणड के सभी तालिमी मरकज शिक्षा स्वयं सेवी, टोला सेवक और प्रेरक उपस्थित थे।

परिहार हाई स्कूल के छात्र छात्राओं ने किया मानव श्रृंखला का माॅक ड्रील , और निकाला साईकिल रैली

Report By Md Dulare
_____________________
परिहार(सीतामढ़ी):-नशा मुक्ति को सफल बनाने के उद्देश्य से सुबे मे मानव शृंखला बनाने का कार्यक्रम 21जनवरी को रखा गया है जो सफलता की ओर अब मात्र एक कदम दूर है ।इसमे इस सफलता को लेकर परिहार मे इन दिनो सरकारी से लेकर अर्द्ध सरकारी कर्मी भी कमर कस चुके हैं जिसको लेकर प्रखंड मे बैठक पर बैठक कर कार्य योजना को सफल बनाने की मुहिम तेज हो गई है उसी मुहिम मे आज परिहार हाई स्कूल के मैदान मे  छात्र/छात्राओं ने मानव शृंखला का एक अभूत पूर्व दृश्य देखते ही बन रहा था लगभग आधे घंटे तक मैदान के शोभा के साथ सफलता को पूर्ण करने कि ओर इशारा कर रहा था उसके बाद यह कार्यक्रम हाई स्कूल प्रधानाध्यापक अता करीम  कि देख रेख मे व सहायक शिक्षक गौतम कुमार के सहयोग से साईकिल रैली हाई स्कूल मैदान से मुख्य चौराहा होते हुए जब्दी चौक तक गया और पुनः वापस स्कूल आया ।इस कार्यक्रम मे लगभग पाँच हजार से ज्यादा स्कूल के बच्चे शामिल हुए।मौके पर जदयू के अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ प्रखंड अध्यक्ष मो युसूफ, बीडीओ निरंजन कुमार, पंचायती राज पदाधिकारी प्रेम प्रकाश शिक्षक मारुफ आलम,मो इस्तेयाक, सहित दर्जनों शिक्षक मौजूद थे।

मुख्य मंत्री बिहार का पैग़ाम बिहार वासियों के नाम

शराब बन्दी क़ानून को,घर- घर तक पहुँचाना है।
गाँव-गाँव, टोले-टोले, घर-घर अलख जगाना  है।

प्रिय बिहार वासियों,

                        सर्वप्रथम शराब बन्दी के अभियान में व्यापक जन समर्थन देने के लिए आप सभो का धन्यवाद।इस के व्यापक सकारात्मक परिणाम दिख रहे हैं।ग़रीब-गुरबे,मेहनत कश लोगों की गाढ़ी कमाई का सदुपयोग हो रहा है।कलह कम हुए हैं, सड़क दुर्घटनाओ में कमी आई है और अपराध भी घटे हैं।आहिस्ते -आहिस्ते,बिना किसी शोर शराबे के घर परिवार और समाज के आर्थिक और सामजिक जीवन में सकारात्मक बदलाव आए हैं।पारिवारिक प्रेम बढ़ा है एवं सामजिक सौहार्द का वातावरण बना है।

                परन्तु अब भी कुछ घोर स्वार्थी और असामाजिक तत्वों इस शगराबबन्दी की मुहिम को कमज़ोर करने की कोशिश से बाज़ नही आ रहे हैं।कहावत है, सावधानी हटी दुर्घटना घटी।हम सबों को उन असामाजिक तत्वों से सतर्क रहना है एवं उनके कुप्रयासों को विफल करना सुनिश्चित कराना होगा।इसके लिए जन चेतना को सतत क़ायम रखना है।

        मध निषेध अभियान का दूसरा चरण 21 जनवरी 2017 से शुरू हो रहा है।हम 21 जनवरी 2017 को राज्य व्यापी श्रृंखला बनाने जा रहे हैं।आप सबों के व्यापक सहयोग से इसमें दो करोड़ से अधिक लोगों के भाग लेने की संभावना है।बिहार एक नया कीर्तिमान रचेगा।आप सभी इसमें बढ़ चढ़ कर हिस्सा लें, यही हमारी प्रार्थना है।

     आप से अपील है, शराब बन्दी के बिहार के संकल्प में पूरी ताक़त और उत्साह से योगदान करें।हँसते-मुस्कुराते-खुशहाल बिहार के निर्माण में साझीदार बनें।

मध् निषेध का नारा है, खुशहाल बिहार हमारा है।

                                आपका
                         (नीतीश कुमार)
               मुख्य मंत्री बिहार

Wednesday, January 18, 2017

कोर्ट के आदेश पर अवर निबंधन पदाधिकारी परिहार और तत्कालीन कार्यालय प्रधान लिपिक पर प्राथमिकी दर्ज

Reports By Md Dulare
परिहार(सीतामढ़ी):-न्यायालय के आदेश पर परिहार अवर निबंधन पदाधिकारी विनीत कुमार सिंह व कार्यालय के तत्कालीन प्रधान लिपिक आनंद मोहन दास पर स्थानीय थाने मे  प्राथमिकी दर्ज की गई है ।वादी नोनाही निवासी मुमताज अंसारी ने बताया कि दस्तावेज नं 3502 दिनांक 26 जुन 2014 को निबंधन शुल्क भुगतान कर जमीन निबंधन कराया था जो शांतिपूर्ण कब्जा होने के बावजूद स्थल जाँच के बहाने केवाला को रोक लिया 12जुन 14 को स्थल निरीक्षण रजिस्ट्रार ने किया ।केवाला मिल जाने के एक साल बाद वादी को रजिस्ट्रार के द्वारा बाजार मूल्य एंव क्रय कम होने का नोटिस आया ,नोटिस के बाद वादी सहायक निबंधन पदाधिकारी मुजफ्फरपुर कैम्प सीतामढ़ी के पास दस्तावेज दिखाया पदाधिकारी ने केवाला को सही साबित किया उसके बाद रजिस्ट्रार अपने कार्यालय में बुलाया और रिश्वत की माँग की। असर्मथता जताया तब रजिस्ट्रार ने देख लेने कि धमकी दी ।फलस्वरूप रजिस्ट्रार ने 64660 रु मुद्रा शुल्क व निबंधन शुल्क 2520 रुपया का नोटिस किया गया तंग आकर कर पीड़ित न्यायालय के शरण में गया ।और न्यायालय के आदेश पर धारा-420 का मामला दर्ज किया गया है।

* क्या है परिहार अवर निबंधन पदाधिकारी विनीत कुमार सिंह का कहना * 
" निबंधन पदाधिकारी श्री सिंह ने बताया कि मुमताज अंसारी का आरोप निराधार है ।जमीन रजिस्ट्री मे साक्ष्य को छुपाया गया है और आवासीय जमीन होने के बावजूद खेतीहर जमीन दिखाया गया है।उसके बाद मामला सहायक निबंधन  महानिरीक्षक तिरहुत प्रमंडल मुजफ्फरपुर के आदेशानुसार मुमताज अंसारी पर नीलामवाद सं 62/14 दर्ज है।"

ब्रेकिंग न्यूज़- *मानव श्रृंखला पर पटना हाइकोर्ट सख्त, सरकार से 24 घंटे में मांगा जवाब*

पटना उच्च न्यायालय ने शराबबंदी के पक्ष में 21 जनवरी को पूरे राज्य में बनने वाले मानव श्रृंखला को लेकर सरकार से जवाब तलब किया है. कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश जस्टिस हेमंत गुप्ता और जस्टिस सुधीर सिंह की कोर्ट ने बुधवार को अधिवक्ता सुशील कुमार की जनहित याचिका पर सरकार से चौबीस घंटे के भीतर जवाब देने को कहा. इस मामले में पूरी रिपोर्ट के साथ गुरुवार को फिर सुनवाई होगी कोर्ट ने कहा कि आखिर किस कानून के तहत 21 जनवरी को सभी नेशनल हाइवे पर पांच घंटे आवागमन को बंद कर दिया गया है किस कानून के तहत स्कूली बच्चों को सड़क पर उतरने को कहा गया कोर्ट ने तल्ख टिप्पणी भी की सुनवाई के दौरान कहा कि क्या सरकार बच्चों को शराब के बारे में जानकारी देना चाहती है

याचिकाकर्ता  ने कोर्ट से कहा कि मानव श्रृंखला के नाम पर सरकार ने तमाशा मचा रखा है. स्कूली बच्चों को मानव श्रृंखला में शामिल होने का आदेश दिया गया है सभी सरकारी कामकाज काे बंद कर मानव श्रृंखला में शामिल होने को कहा गया है पांच घंटे तक पूरा प्रदेश ठप रहेगा. इस दौरान किसी की मौत हो गयी या इलाज के लिए बाहर निकलना पड़ा तो इसके लिए  सरकार  ने क्या प्रबंध किया है कोर्ट ने इन बिंदुओं पर  सरकार से जवाब मांगा है इस मामले की सुनवाई गुरुवार को होगी. गौरतलब है कि नशामुक्ति के पक्ष में सरकार 21 जनवरी को दुनिया की सबसे बड़ी मानव श्रृंखला बनाने जा रही है इसमें दो करोड़ लोग शामिल हाेंगे सेटेलाइट रिकार्डिंग के लिए इसरो और नासा से संपर्क किया जा रहा है

राज्य कर्मी का दर्जा पाने के लिए नियोजित शिक्षकों के संघ ने बनाया महा संघ

राज्य कर्मी का दर्जा और सामान काम के बदले सामान वेतनमान के लिए नियोजित शिक्षकों के संघों ने मिलकर महा संघ का गठन किया है।
             नियोजित शिक्षक महा संघ में राज्य प्रारंभिक माध्यमिक शिक्षक संघ,टीईटी शिक्षक संघ,नियोजित शिक्षक न्याय मोर्चा, अनुकम्पा नियोजित शिक्षक संघ, प्रारंभिक शिक्षक संघ, उर्दू - बंगाल नियोजित शिक्षक संघ और बिहार उच्च माध्यमिक शिक्षक संघ शामिल है।

Tuesday, January 17, 2017

Daily chingari चिंगारी چنگاری: बिन बरसात भी परिहार उत्तरी के सड़कों पर पानी

Dailychingariचिंगारीچنگاری: बिन बरसात भी परिहार उत्तरी के सड़कों पर पानी

Daily chingari चिंगारी چنگاری: बिन बरसात भी परिहार उत्तरी के सड़कों पर पानी

Daily chingari चिंगारी چنگاری: बिन बरसात भी परिहार उत्तरी के सड़कों पर पानी

राज्य व्यापी मानव श्रृंखला को लेकर 18 जनवरी 17 को बीआरसी भवन परिहार में होगी बैठक

18 जनवरी 2017 को बी ० आर० सी० भवन में समय2,00 बजे नशा मुक्त मानव श्रृंखला बनाने हेतु प्रखण्ड परिहार के सभी विद्यालय के प्रधानाध्यापक सी० आर० सी सी, बी ० आर० पी एवं प्रखण्ड शिक्षा पदाधिकारी स समय भाग लेना सुनिश्चित करेंगे । किसी प्रकार की लापरवाही बरते जाने पर कार्रवाई की चेतावनी दी गई है।

भाषा और अभिव्यक्ति पर पाबंदी

महजीं
-----------
धीरे-धीरे भाषा और अभिव्यक्ति पर लगता जा रहा है अंकुश और लोगों को सेल्फी से फुर्सत नहीं है।

"नाम गुम जाएगा, चेहरा ये बदल जाएगा, मेरी आवाज़ ही मेरी पहचान है, गर याद रहे तुम्हें "

अमेरिका विश्व की सबसे बड़ी महाशक्ति के रूप में है। लेकिन वो किन बुनियादी ढांचों पर शक्तिशाली बना है राज़ किसी से छुपा नहीं। भाषा, समुदाय, धर्म, सभ्यता, संस्कृति, मनुष्यता, सभी में परिवर्तन किया, भिड़ाया, द्वन्द्व की स्थितियां उत्पन्न की अपने लाभ के लिए। अपना साम्राज्यवाद विस्तृत करने के लिए दमन किया, दूसरे देशों के संसाधनों को लूट रहा है, आज तक। अन्य देशों के लोग उसकी दमनकारी और आर्थिक नीतियों से खुश नहीं हैं, अमेरिका के ही लोग जो निम्न वर्ग से हैं ज़मीन से जुड़े हुए हैं वो भी उसकी थोपी हुई नीतियों से परेशान हैं। अमेरिका अपनी बनाई गई नीतियों को दूसरों पर सिर्फ थोपता आया है, कभी ख़ुद अम्ल नहीं किया उनपर, विरोध करने वालों को भी दबाता आया है, जो उसके ख़िलाफ़ बोलने की कोशिश करेगा उसकी ज़ुबान बंद कर दी गई, लेकिन क्या हुआ भाषा अभिव्यक्ति पर अंकुश लगाने का अंजाम? सबको मालूम है । गूंगा आदमी भी बिना ज़ुबान से इक़रार किये ख़ुदा पर ईमान लाता है, रखता है, अपनी अभिव्यक्ति को हाथ पैरों आँखों से ज़हिर करता है। और समझने वाले समझ भी जाते हैं । अमेरिका ने जब अभिव्यक्ति पर प्रतिबंध लगाया तब भी यही हुआ था, लोगों ने हाथ पैरों जूतों से अभिव्यक्त करना शुरू कर दिया। अब भारत भी अगर भाषा अभिव्यक्ति की सीमाओं को सीमित करने की कोशिश कर रहा है, वर्तमान भारत की संघी सरकार भी अब इसी रास्ते पर चल निकली है।  असमानताओं के आधार पर, दमन शोषण के आधार पर शक्तिशाली बनने का सपना देख रहा है, निम्न, वर्ग, मध्यवर्ग, किसान ग़रीब मज़दूर महिलाएं अब चर्चा का विषय नहीं रही, और जो चर्चा ज़ारी रखना चाहते हैं, उनके मुँह बंद करने की कोशिश की जा रही हैं, धिरे - धिरे तरह - तरह के परोपेगेंडा के द्वारा अपनी नीतियों को थोपा जा रहा है, ऊपरी सतह पर कुछ और दिखाया जा रहा है, और अन्दरूनी मुआमले कुछ और तय किये जा रहे हैं।वर्तमान सरकार द्वारा पूंजीपतियों की भाषा को फरोग़ दिया रहा हैं और ग़रीब, मज़दूर, मज़लूम, तलबा की भाषा को दबाने की कोशिश की जा रही है । जनता अब इतनी बेवकूफ भी नहीं है, सोशल मीडिया एक अच्छा खासा आईना है। पोल खोलकर रख देता है सबके सामने। इतिहास गवाह है जब जब ज़ुंबा पर क़ुफ्ल (ताला ) लगाने की कोशिश की गई शैलाब आया इनक़लाब आया।

जूता" लैदर का हो, या, रेक्सीन, कपड़े, स्पोर्ट्स, लेडीज, जेन्टस, जब तक शौरूम में है, इसकी पेहचान, बाटा, ऐक्शन, ऐडीडाज है.. फुटपाथ पर है, तो ये, 100 का, 200,300,400,का है बाबू जी... और, जब पांव में है, तो, उच्च वर्ग, मध्यवर्ग, निम्नवर्ग है.. और, जब, मुँह पर पड़ता है न  भईया... तब, इसके कमाल, देखने लायक हैं... सीधा, अख़बार में, टीवी में, पहुंचता है... जूता मारना, और.. जूता खाना, बड़ा दम चाहिए, जूता खाने वाला भी, मामूली नहीं.. और, जूता, मारने वाला भी मामूली नहीं.. जैदी ने, मारा था, बुश के मुँह पर जूता... दस साल, ज़ेल काटकर आया बाहर.... कितना, निडर था वो आदमी, जिसने बुश के मुँह पर जूता मारा... विश्व की सबसे बड़ी महाशक्ति के ऊपर जूता मारा....  केजरीवाल जी भी जूते का स्वाद चख़ चूके हैं... और, आजकल तो, संसद की बहस भी, जूते, चप्पलों से चलती है... किसी ने लिखा था, निबंध, मुझे याद नहीं अब, साहित्यकार की रचना है , 'प्रेमचंद के फटे जूते'  जूता आदमी की, औकात भी जाहिर करता है.. जूते पर फिल्म बनी, शकालाका बूम बूम, जूते के माध्यम से, देश के हालात, गरीबी, बेरोजगारी , गैरबराबरी, आतंक का हिस्सा बनता आदमी, सबकुछ ब्यां किये हैं। कभी-कभार अभिव्यक्ति का माध्यम भी बनाना पड़ता है, जब ज़ोर - ओ - ज़ुल्म बढ़ जाता है।
सारे रास्ते बंद किये जाते हैं तो दूसरा चुन लिया जाता है । अभिव्यक्ति के लिए जब शब्दों के माध्यम बंद किये जाएंगे तब मज़बूरी में स्पर्श के माध्यम चुने जाएंगे। और ऐसी स्थितियों के लिए सरकार जिम्मेदार होगी। क्योंकि लोगों में अब सब्र (संयम )  बर्दाश्त नहीं। ऐसी स्थिति को उत्पन्न होने से रोकने के लिए, बेहतर इसी में है कि सरकार को अपने विचारों, फैसलों, नीतियों में तर्मीम(बदलाव ) करे।

मेहजबीं

Monday, January 16, 2017

मानव श्रृंखला को लेकर परिहार उत्तरी मध निषेध संचालन समिति की बैठक आयोजित

पंचायत स्तरीय मध् निषेध संचालन समिति की बैठक 21 जनवरी 2017 मानव श्रीखंला के अग्रिम तयारी हेतु पंचायत लोक शिक्षा केन्द्र मध्य विद्यालय परिहार के कार्यालय प्रकोष्ठ में संचालन समिति की बैठक  सम्पन्न हुई।
बैठक को संबोधित करते हुए तालिमी मरकज़ के स्वयं सेवी मोहम्मद कमरे आलम ने कहा कि मध् निषेध का यह द्वितीय चरण है जिस की शुरुआत 21 जनवरी 2017 को मानव श्रृंखला निर्माण से हो रहा है जो 22 मार्च 2017 तक चलेगा।संचालन समिति सदस्यों से आह्वान किया कि इस राज्य व्यापी अभियान की सफलता के लिए पूरी ईमानदारी से लग जाएँ।अभियान की सफलता बिहार को मानव श्रृंखला के रूप में विश्व स्तर पर स्थापित कर देगा अभी तक मानव श्रीखंला का विश्व रिकॉर्ड बांग्लादेश के नाम है। जन जागरूकता के लिए 20 जनवरी 2017 को प्रभात फेरी निकलने का निर्णय लिया गया जिस में सभी स्कूल को शिक्षक छात्र सम्मिलित होंगे।बैठक को हाई स्कूल के प्रधानाध्यपक अता करीम, मध्य विद्यालय परिहार के शिक्षक रेयाज अहमद, हाई स्कूल के शिक्षक विजय कुमार और जीविका दीदी संजू चौरसिया ने भी संबोधित किया।बैठक में टोला सेवक संतोष कुमार, लालू मांझी, धर्मेंद्र मांझी, पूनम कुमारी, सभी आशा दीदी,विकास मित्र और लोक शिक्षा केन्द्र के वरीय प्रेरक लक्ष्मण यादव आदि उपस्थित थे।

Sunday, January 15, 2017

वक़्फ़ जायदाद को नाजायज़ क़ब्ज़ा से आज़ाद कराया जाए

आल इंडिया मिल्ली वक़्फ़ कौंसिल के राष्ट्रीय उपाध्यक्षक मौलाना रशीद अहमद खान और बिहार व झारखण्ड प्रभारी डॉक्टर हामिद रेज़ा खान वक़्फ़ जायदाद पर नाजायज़ कब्ज़ा जमाए लोग से ज़मीन खाली कराए जाने की माँग राज्य सरकार से की है।उन्होंने कहा कि सीतामढ़ी के वक़्फ़ स्टेट नंबर बीआरएसटी 1052 के सर्वे नंबर 221,223,226,227 क ख़ तथा 230 जिसका खाता नंबर 315है कुछ दबंग लोग नाजायज़ क़ब्ज़ा कर ग़लत काग़ज़ात बना लिए हुए हैं।

तालिमी मरकज़ संघ बेगूसराय जिला इकाई ने मुख्यमंत्री बिहार को सौंपा 12 सूत्री माँग पत्र

बिहार राज्य तालिमी मरकज़ शिक्षा स्वयं सेवी संघ बेगूसराय जिला इकाई के ने माननीय मुख्यमंत्री बिहार सरकार को निश्चय यात्रा के दौरान 12 सूत्री मांगों से सम्बंधित माँग पत्र सौंपा।

तालिमी मरकज संघ की मुख्य माँगें :-

1. मानदेय नही  वेतनमान दिया जाए।
2.विभाग सभी नियुक्त टोला सेवक/शिक्षा स्वयं सेवी को शानाख्ति कार्ड जारी करे।
3.सभी सरकारी छुट्टी के अलावा आकस्मिक अवकास, चिकित्सा अवकाश, विशेषा अवकाश,मेटरनिटी लीव अधिघोषित किया जाए
4.भविष्यनिधि का लाभ लागू करने के साथ 10 लाख रुपये का जीवन बीमा करवाया जाए
5.प्रत्येक सेंटर पर TLM, TLE की राशि बच्चों और प्रशिक्षु महिला के लिए अलग-अलग उपलब्ध कराई जाए।
5.सेवा शर्त, नियमावली का निर्धारण किया जाए ।
6.सेवा पुस्तिका का निर्धारण किया जाए ।
7.मृत्यु उपरांत आश्रितों को अनुकम्पा का लाभ दिया जाए/मृत हो चुके स्वयं सेवक और टोला सेवक के आश्रित को अविलंब चार लाख रुपये की अनुग्रह राशि दी जाए ।
8.जन शिक्षा निदेशालय द्वारा छोड़ दिए गए सभी पूर्व तालिमी मरकज शिक्षा स्वयं सेबी और टोला सेवक को अक्षर आॅचल योजना से जोड़ा जाए ।
9.बिहार के प्राथमिक विद्यालयों में Pre-Primary Education प्रारंभ कर शिक्षा स्वयं सेवी और टोला सेवक को शिक्षक के रूप में समायोजित किया जाए ।
10.नेशनल पेंशन स्कीम के तहत पेंशन की सुविधा के साथ स्वास्थ्य बीमा योजना से आच्छादित किया जाए ।
11.व्यक्तिगत ऋण स्वीकृति का आदेश बैंकों को जारी किया जाए ।
12.लम्बित मानदेय का भुगतान अविलंब किया जाए ।

जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी ने दिया पैक्स अध्यक्ष परिहार उत्तरी पर कार्रवाई का आदेश,निवारण पदाधिकारी ने लोक प्राधिकार सह जिला सहकारिता पदाधिकारी सीतामढ़ी को कहा क्या आप इस अधिनियम को विफल करना चाहते हैं ?

जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी सीतामढ़ी ने एक मामले में लोक प्राधिकार सह जिला सहकारिता पदाधिकारी सीतामढ़ी को तत्कालीन पैक्स अध्यक्ष परिहार उत्तरी पर 15 दिनों के अंदर कार्रवाई कर आवेदक और जिला निवारण कार्यालय को सूचित करने का आदेश पारित किया है।ज्ञात हो कि ग्राम एकडंडी परिहार निवासी मोहम्मद मुश्ताफा ने जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी सीतामढ़ी को तत्कालीन पैक्स अध्यक्ष परिहार उत्तरी मोहम्मद अज़ीम आलम पर आवेदन दे कर आईसीडीपी योजनान्तर्गत बनाए गए पैक्स गोदाम की राशि गबन कर लेने का आरोप लगाया था ,पैक्स अध्यक्ष ने निर्माण की पूरी राशि निकलने के बावजूद गोदाम निर्माण का कार्य पूर्ण नही कराया गया है।

  *  * जिला लोक शिकायत पदाधिकारी ने परिवाद का निराकरण के लिए कई सूचना निर्गत किया गया मगर लोक प्राधिकार सह जिला सहकारिता पदाधिकारी ने कोई रुचि नही ली।**

मोहम्मद मुश्ताफा ने 24 अक्टूबर 2016 को लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी सीतामढ़ी के कार्यालय में शिकायत दर्ज कराई थी लोक शिकायत कार्यालय में कई तिथियों को सुनवाई की गई मगर लोक प्राधिकार उपस्थित नहीं हुए।लोक शिकायत कार्यालय ने 05/11/2016,01/12/2016,02/12/2016,22/12/2016, और 09/01/2017 को सुनवाई की तिथि रखी थी मगर जिला सहकारिता पदाधिकारी उपस्थित होना मुनासिब नहीं समझा।

आखिर में जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी ने 09/01/2017 को निर्णय पारित कर मामले का निष्पादन कर दिया।लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी ने अपने निर्णय में लिखा है कि परिवादी के आवेदन का अवलोकन किया जो पैक्स अध्ययक्ष के द्वारा राशि गबन करने से सम्बंधित है।परिवादी के आवेदन पर नियम संगत कार्रवाई कर निराकरण कर प्रतिवेदन के साथ उपस्थित होने के लिए लोक प्राधिकार को कई सूचना निर्गत की गई मगर अनुपालन में अनुपस्थित रहे।निर्धारित समय के अंदर लोक प्राधिकार ने परिवाद का न तो निराकरण किया और न ही कोई प्रतिवेदन प्रस्तुत किया इस से स्पष्ट है कि लोक प्राधिकार निराकरण की दिशा में कोई अभिरूचि ली गई।

        और लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी ने इस आदेश के साथ परिवाद का निष्पादन कर दिया की लोक प्राधिकार सह जिला सहकारिता पदाधिकारी सीतामढ़ी को आदेश दिया जाता है कि सुनवाई की तिथि से 15 दिनों के अंदर नियम संगत परिवाद का निराकरण करना सुनिश्चि करें और कार्यालय को दे साथ ही कृत कार्रवाई से आवेदक को भी अवगत कराया जाए।आगे आदेश में कड़े शब्दों में टिपण्णी की कि अगर निर्धारित समय अवधि में लोक प्राधिकार परिवाद के विषय वस्तु पर नियम संगत कार्रवाई करने में असफल रहते हैं तो यह समझा जायगा की वे अपने कर्तव्य एवं दायित्यों का निर्वहन करने में जान बूझकर लापरवाही बरतते हुए इस अधिनियम के सुसंगत प्रावधान को विफल करने के लिए दोषी हैं।

विशिष्ट पोस्ट

सामान्य(मुस्लिम)जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को हटाने से संबंधित निर्णय को वापस ले सरकार वरना सड़क से लेकर संसद तक होगा आंदोलन :- मोहम्मद कमरे आलम

आठ वर्षों से कार्य कर रहे सामान्य मुस्लिम जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को एक झटके में बिहार सरकार द्वारा सेवा से यह कह कर हटा दिया...