Thursday, February 09, 2017

डी एम भागलपुर ने आठ वर्षीय बच्ची के बलात्कारी को गिरफ्तार करने का दिया आदेश

Mustaqim Siddiqui
---------------------------------
आज भागलपुर में कुछ इंसाफ पसंद लोगों ने 8 वर्ष की ब्लात्कार पीड़िता को इंसाफ दिलाने के लिए इंसाफ मार्च निकाल कर ब्लात्कार पीड़िता को भागलपुर डी एम के सामने खड़ा किया पीड़िता खुद से डी एम के कार्यालय में खड़ी होकर अपने उपर हुए जुल्म पर चुप्पी तोड़ी l मालूम हो की देश इस ब्लातकार पर खामोश है लेकिन आजसे पीड़िता ने ब्लात्कारी को सजा दिलाने के लिए इंसाफ पसंदों के साथ आवाज बुलंद कर चुकी है l

डी एम भागलपुर ने पीड़िता , उसके परिवार और इंसाफ मार्च के प्रतिनिधियों के सामने एस पी नौगछीया को फोन करके ब्लात्कारी को अबिलम्ब गिरफतार करने का आदेश दिया , एस पी नौगछीया ने जैसे ही कहा के ब्लात्कारी फरार है यह सुनते ही डी एम साहेब ने सख्त आदेश देते हुए कहा के ब्लात्कारी को किसी भी हाल में अबिलमब गिरफतार किया जाय l

डॉक्टर ज़ाकिर हुसैन

देश के प्रथम मुस्लिम राष्ट्रपति भारत रत्न विभूषित शिक्षाविद डॉक्टर ज़ाकिर हुसैन का जन्मदिन है , आपके व्यक्तित्व व कृतित्व से आने वाली पीढ़ी को प्रेरणा मिले और राष्ट्र के लिये उत्सर्ग होने का भाव सृजित हो , ऐसे प्रयास हम सभी के अभिनंदिनीय होंगे l
राष्ट्रपति बनने पर अपने उदघाटन भाषण में उन्होंने कहा था कि समूचा भारत मेरा घर है और इसके सभी बाशिन्दे मेरा परिवार हैं। 3 मई 1969 को उनका निधन हो गया। वह देश के ऐसे पहले राष्ट्रपति थे जिनका कार्यालय में निधन हुआ।

डॉ. ज़ाकिर हुसैन (अंग्रेज़ी: Zakir Hussain, जन्म: 8 फ़रवरी, 1897 - मृत्यु: 3 मई, 1969) भारत के तीसरे राष्ट्रपति थे। उनका राष्ट्रपति कार्यकाल 13 मई 1967 से 3 मई 1969 तक रहा। डॉ. जाकिर हुसैन मशहूर शिक्षाविद् और आधुनिक भारत के दृष्टा थे। ये बिहार के राज्यपाल (कार्यकाल- 1957 से 1962 तक) और भारत के उपराष्ट्रपति (कार्यकाल- 1962 से 1967 तक) भी रहे। उन्हें वर्ष 1963 मे भारत रत्न से सम्मानित किया गया। 1969 में असमय देहावसान के कारण वे अपना राष्ट्रपति कार्यकाल पूरा नहीं कर सके।केवल 23 वर्ष की अवस्था में वे 'जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय' की स्थापना दल के सदस्य बने। वे अर्थशास्त्र में पी.एच.डी की डिग्री के लिए जर्मनी के बर्लिन विश्वविद्यालय गए और लौट कर जामिया के उप कुलपति के पद पर भी आसीन हुए। 1920 में उन्होंने 'जामिया मिलिया इस्लामिया' की स्थापना में योगदान दिया तथा इसके उपकुलपति बने। इनके नेतृत्व में जामिया मिलिया इस्लामिया का राष्ट्रवादी कार्यों तथा स्वाधीनता संग्राम की ओर झुकाव रहा। स्वतन्त्रता प्राप्ति के पश्चात वे अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के कुलपति बने तथा उनकी अध्यक्षता में ‘विश्वविद्यालय शिक्षा आयोग’ भी गठित किया गया। इसके अलावा वे भारतीय प्रेस आयोग, विश्वविद्यालय अनुदान आयोग, यूनेस्को, अन्तर्राष्ट्रीय शिक्षा सेवा तथा केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड से भी जुड़े रहे। 1962 ई. में वे भारत के उपराष्ट्रपति बने।
कार्यक्षेत्र
डॉ. ज़ाकिर हुसैन भारत के राष्ट्रपति बनने वाले पहले मुसलमान थे। देश के युवाओं से सरकारी संस्थानों का वहिष्कार की गाँधी की अपील का हुसैन ने पालन किया। उन्होंने अलीगढ़ में मुस्लिम नेशनल यूनिवर्सिटी (बाद में दिल्ली ले जायी गई) की स्थापना में मदद की और 1926 से 1948 तक इसके कुलपति रहे। महात्मा गाँधी के निमन्त्रण पर वह प्राथमिक शिक्षा के राष्ट्रीय आयोग के अध्यक्ष भी बने, जिसकी स्थापना 1937 में स्कूलों के लिए गाँधीवादी पाठ्यक्रम बनाने के लिए हुई थी। 1948 में हुसैन अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के कुलपति बने और चार वर्ष के बाद उन्होंने राज्यसभा में प्रवेश किया। 1956-58 में वह संयुक्त राष्ट्र शिक्षा, विज्ञान और संस्कृति संगठन (यूनेस्को) की कार्यकारी समिति में रहे। 1957 में उन्हें बिहार का राज्यपाल नियुक्त किया गया और 1962 में वह भारत के उपराष्ट्रपति निर्वाचित हुए। 1967 में कांग्रेस पार्टी के आधिकारिक उम्मीदवार के रूप में वह भारत के राष्ट्रपति पद के लिए चुने गये और मृत्यु तक पदासीन रहे।
अनुशासनप्रिय व्यक्तित्त्व
डॉ. ज़ाकिर हुसैन बेहद अनुशासनप्रिय व्यक्तित्त्व के धनी थे। उनकी अनुशासनप्रियता नीचे दिये प्रसंग से समझा जा सकता है। यह प्रसंग उस समय का है, जब डॉ. जाकिर हुसैन जामिया मिलिया इस्लामिया के कुलपति थे। जाकिर हुसैन बेहद ही अनुशासनप्रिय व्यक्ति थे। वे चाहते थे कि जामिया मिलिया इस्लामिया के छात्र अत्यंत अनुशासित रहें, जिनमें साफ-सुथरे कपड़े और पॉलिश से चमकते जूते होना सर्वोपरि था। इसके लिए डॉ. जाकिर हुसैन ने एक लिखित आदेश भी निकाला, किंतु छात्रों ने उस पर कोई विशेष ध्यान नहीं दिया। छात्र अपनी मनमर्जी से ही चलते थे, जिसके कारण जामिया विश्वविद्यालय का अनुशासन बिगड़ने लगा। यह देखकर डॉ. हुसैन ने छात्रों को अलग तरीके से सुधारने पर विचार किया। एक दिन वे विश्वविद्यालय के दरवाज़े पर ब्रश और पॉलिश लेकर बैठ गए और हर आने-जाने वाले छात्र के जूते ब्रश करने लगे। यह देखकर सभी छात्र बहुत लज्जित हुए। उन्होंने अपनी भूल मानते हुए डॉ. हुसैन से क्षमा मांगी और अगले दिन से सभी छात्र साफ-सुथरे कपड़ों में और जूतों पर पॉलिश करके आने लगे। इस तरह विश्वविद्यालय में पुन: अनुशासन कायम हो गया।
लखनऊ

Wednesday, February 08, 2017

10 फ़रवरी के धरणा प्रदर्शन में भाग लेने का आह्वान


मधुबनी जिला रहिका प्रखण्ड सचिव मोहम्मद समीऊल और मोहम्मद फारूक आलम प्रखंड अधयक्ष टोला सेवक तालीमी मरकज संघ प्रखंड कस्बा जिला पूर्णिया ने तमाम टोला सेवक और तालिमी मरकज के साथियों से अनुरोध किया है कि 10  फरवरी को 11 बजे से  मधुबनी और पूर्णिया के एक दिवसीय धारणा/ प्रदर्शन में बढ़ -चढ़ कर हिस्सा लेने का आह्वान किया है।

तालिमी मरकज़ मोतीहारी का निर्णय 10 फ़रवरी के धरना मे लेंगें हिस्सा

जिला मोतीहारी तालिमी मरकज़ संघ के सचिव मोहम्मद इरशाद आलम के इत्तलाः के मुताबिक 07 फ़रवरी को जिला कमिटी की बैठक जिला अध्यक्ष मोहम्मद रुस्तम की अध्यक्षता में हुई जिस में निर्णय लिया गया कि 10 तारीख को होने वाले धरना में ज़िला के सभी तालिमी मरकज़ के साथी बढ़ चढ़ कर हिस्सा लें।साथ ही पूरे बिहार के तालिमी मरकज़ से अपील किया गया है कि किसी के बहकावे में न आयें।
राब्ते के लिए अपना नम्बर भी जारी किया है।
Md Rustam 9955763764
or Md Irshad alam 9507092321

Tuesday, February 07, 2017

साक्षर भारत कर्मियों ने मुख्य कार्यक्रम समन्वयक नागेन्द्र पासवान का किया भव्य स्वागत

प्रखण्ड लोक शिक्षा समिति रुन्नी सैदपुर साक्षर भारत के कर्मियों ने लोक शिक्षा समिति के प्रांगण में एक सभा का आयोजन प्रखण्ड शिक्षा पदाधिकारी रुन्नी सैदपुर माधवेन्द्र कुमार की अध्यक्षता में कर मुख्य कार्यक्रम समन्यवक सीतामढ़ी नागेन्द्र पासवान के कार्य भार सँभालने के उपलक्ष्य में भव्य स्वागत किया और अपनी एक सूत्री माँग पत्र सौंपा।की साक्षर भारत कर्मी को केंद्रीय कर्मी का दर्ज़ा देने की घोषणा की जाय।
मौके पर कार्यक्रम समन्यवक नवीन कुमार, राम किशोर सिंह, कल्पना कुमारी, अशोक कुमार तालिमी मरकज के मो• शाहिद रेजा आदि मौजूद थे।

तालिमी मरकज़ और उत्थान केंन्द्र के कर्मियों की आवाज़ को अब बिहार सरकार दबा नही पाएगी - मोहम्मद कमरे आलम

बिहार प्रदेश के हर कोने से उठ रही तालिमी मरकज़ और उत्थान केंन्द्र के कर्मियों की आवाज़ को अब बिहार सरकार दबा नही पाएगी।सरकार को राज्य कर्मी का दर्जा के साथ वेतन मान देना होगा।तालिमी मरकज़, उत्थान केँद्र के एकता अखंडता को मैं दिल से सलाम करता हूँ।

MD Qamre Alam Ekdandi parihar sitamarhi Bihar

Monday, February 06, 2017

तालिमी मरकज़ और उत्थान केंन्द्र के कर्मी को राज्य कर्मी का दर्जा व वेतनमान देने की माँग को लेकर जिला स्तरीय बैठक आयोजित

जिला तालिमी मरकज़ संघ सीतामढ़ी के बैनर तले आज सीतामढ़ी जिला के तमाम तालिमी मरकज़ रेज़ाकारों की अहम्  बैठक डुमरा हवाई अड्डा के ग्राउंड में तालिमी मरकज़ के जिला अध्यक्ष मोहम्मद एजाज़ कौसर खान की सदारत में आयोजित की गई। बैठक में इत्तफ़ाक़ राय से तजवीज़.पास किया गया की बिहार सरकार तालिमी मरकज़ और उत्थान केंन्द्र के कर्मी को राज्य कर्मी घोषित करे और वेतनमान दे। बैठक में ये भी तय हुआ कि अपनी उक्त माँगों के समर्थन में तमाम तालिमी मरकज़ रज़ाकारों का हस्ताक्षरित माँग पत्र मुख्यमंत्री को भेजा जाए। बैठक में सीतामढ़ी जिला के सभी ब्लॉक सदूर और तमाम रजाकार और प्रदेश कमिटी के नायब सदर मोहतरमा नुजहत जहाँ ,जॉइन्ट सेक्रेटरी मोहम्मद सगीर अंसारी मौजूद थे बैठक में खास कर जिला कमिटी को फयाल बनाने पर खासा जोड़ दिया गया।
जिला सदर ने मज़बूत जिला कमिटी बनाने व रेज़ाकारों की समस्याओं को जल्द अज़ जल्द हल निकालने का वादा किया।उन्होंने कहा कि नये साथियों के मानदेय भुगतान के लिए हर मुमकिन कोशिश करेंगे।

Sunday, February 05, 2017

आठ साला बलात्कार पीड़िता को इन्साफ दिलाने के लिए इन्साफ इंडिया ने तय किया दौड़ा कार्यक्रम

6 फरवरी 2017 से 11 फरवरी 2017 तक प्रथम चरण में लगातार बिहार के अलग अलग 12 ज़िलों का दौरा l

8 साल की रेप पिड़ीता को इंसाफ दिलाने समाजिक संगठनों , समाजिक कार्यकर्ताओं , कानून विशेषज्ञयों , ज़िम्मादार नागरिकों , छात्र संगठनों , निर्वाचित प्रतिनिधियों का सहयोग लेना और सरकार पर दबाव बनाना चुंके बिहार सरकार एवं सरकारी तंत्र इस कांड में उपेक्षा कर रही है l

विशिष्ट पोस्ट

सामान्य(मुस्लिम)जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को हटाने से संबंधित निर्णय को वापस ले सरकार वरना सड़क से लेकर संसद तक होगा आंदोलन :- मोहम्मद कमरे आलम

आठ वर्षों से कार्य कर रहे सामान्य मुस्लिम जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को एक झटके में बिहार सरकार द्वारा सेवा से यह कह कर हटा दिया...