Friday, June 23, 2017

जिला साक्षरता सीतामढ़ी में लाखों रुपये मानदेय राशि का फर्ज़ीवाड़ा कर ग़बन

जिला साक्षरता सीतामढ़ी में लाखों रुपये का फर्ज़ीवाड़ा
--------------
जिला साक्षरता सीतामढ़ी में फ़र्ज़ी 21(इक्कीस) तालिमी मरकज़ शिक्षा स्वयं सेवी के बैंक खातों में मानदेय राशि हस्तांत्रित कर लाखों रुपये का फर्ज़ीवाड़ा कर ग़बन किया जा रहा है।
मालूम हो कि जिला सीतामढ़ी में जनवरी 2016 में 45 तालिमी मरकज़ शिक्षा स्वयं सेवी को दो दिवसीय प्रशिक्षण देकर योगदान करवाया गया था और एक तालिमी मरकज़ शिक्षा स्वयं सेवी को जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी सीतामढ़ी के निर्णय के आलोक में 11जुलाई 2016 को योगदान करवाया गया था मगर अब तक इन शिक्षा स्वयं सेवकों को मानदेय राशि का भुगतान नहीं किया गया और वही 21 (इक्कीस) तालिमी मरकज़ शिक्षा स्वयं सेवकों को आनन फानन में 29 जुलाई 2016 को योगदान दिखा  कर उन के बैंक खातों में मानदेय राशि भेज कर सरकारी राशि का ग़बन किया जा रहा है।जबकि जानकारों का कहना है कि इन नव नियोजित शिक्षा स्वयं सेवियों के द्वारा संबंधित विद्यालयों में योगदान भी नहीं किया है।

Monday, June 19, 2017

मानदेय राशि/हौसला अफजाई रक़म

मानदेय राशि/हौसला अफजाई रक़म
-----------------------------------
बेरोज़गारी से तंग, परिवारों के तानों से परेशान मानदेय मिलने वाले कामों को करने पर मजबूर लोगों को मानदेय /हौसला अफजाई रक़म सरकार के पदाधिकारी देना नही चाहते हैं।मानदेय वाली नौकरी (काम) बेरोज़गार नौजवान मज़बूरी में करते हैं ताकि फ़ाक़ा कशी से तंग आकर खुदकशी न करना न पड़े मगर पदाधिकारी मानदेय राशि/हौशला अफ़ज़ाई रक़म का पेमेंट न कर मानदेय पर काम करने वाले लोगों को आत्महत्या करने पर उत्साहित नही करती है तो क्या कर रही है  ?
सरकार के शक्तिशाली पदों पर बैठे लोगों को ये एहसास नहीं होता है कि भूख प्यास, बेरोज़गारी, परिवार के तानों का तंज़ क्या होता है ? अगर सरकार हौसला अफजाई रक़म भी वक़्त पर नही दे सकती  तो हौसला अफजाई जैसे चलने वाले कार्यक्रम को सरकार को बन्द कर देनी चाहिए और कीमती मानव जीवन को खत्म करने का कानूनी हक दे देनी चाहिए।

मानदेय राशि/हौसला अफजाई रक़म

मानदेय राशि/हौसला अफजाई रक़म
-----------------------------------
बेरोज़गारी से तंग, परिवारों के तानों से परेशान मानदेय मिलने वाले कामों को करने पर मजबूर लोगों को मानदेय /हौसला अफजाई रक़म सरकार के पदाधिकारी देना नही चाहते हैं।मानदेय वाली नौकरी (काम) बेरोज़गार नौजवान मज़बूरी में करते हैं ताकि फ़ाक़ा कशी से तंग आकर खुदकशी न करना न पड़े मगर पदाधिकारी मानदेय राशि/हौशला अफ़ज़ाई रक़म का पेमेंट न कर मानदेय पर काम करने वाले लोगों को आत्महत्या करने पर उत्साहित नही करती है तो क्या कर रही है  ?
सरकार के शक्तिशाली पदों पर बैठे लोगों को ये एहसास नहीं होता है कि भूख प्यास, बेरोज़गारी, परिवार के तानों का तंज़ क्या होता है ? अगर सरकार हौसला अफजाई रक़म भी वक़्त पर नही दे सकती  तो हौसला अफजाई जैसे चलने वाले कार्यक्रम को सरकार को बन्द कर देनी चाहिए और कीमती मानव जीवन को खत्म करने का कानूनी हक दे देनी चाहिए।

Sunday, June 18, 2017

इंसाफ - इंडिया के राष्ट्रीय संयोजक मुस्तकीम सिद्दीकी को गोड्डा टाउन थाना के थाना प्रभारी ने दी मुक़दमा में फ़साने की धमकी, सिद्दीकी की ज़ुबानी

इंसाफ_इंडिया : गोड्डा टाउन थाना प्रभारी अशोक गिरी ने साथी Ranjit Inquilab Godda के फोन से मुझे धमकी दी है, मेरे साथी को टाउन थाना में बुलाकर झुटे मुकदमे में फसाने की बात कही है , गोड्डा टाउन थाना में कुछ साथियों को मेरे बारे में देशद्रोही एवं दंगा भड़काने में संलिप्ता का किया प्रोपेगंडा l

मेरा कसुर : मैने 16 जुन को गोड्डा में कुछ साथियों के साथ झारखंड नवनिर्माण की बैठक का आहवान किया था l

जब मैने पुलिस अधिक्षक (एस पी) गोड्डा से ऐसे झुटे आरोप के बारे बात करना चाहा तो एस पी गोड्डा ने अपने थाना प्रभारी की बात को सही ठहराते हुए हम पर गुस्से का इजहार करते हुए बाद में बात करने को कहा l

साथियों यही है फासीवाद , यही है संघवाद , उठती आवाज को दबाने की कोशिश l

Mustaqim Siddiqui
राष्ट्रीय संयोजक
इंसाफ इंडिया l

विशिष्ट पोस्ट

सामान्य(मुस्लिम)जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को हटाने से संबंधित निर्णय को वापस ले सरकार वरना सड़क से लेकर संसद तक होगा आंदोलन :- मोहम्मद कमरे आलम

आठ वर्षों से कार्य कर रहे सामान्य मुस्लिम जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को एक झटके में बिहार सरकार द्वारा सेवा से यह कह कर हटा दिया...