Click here online shopping

Friday, April 13, 2018

रोटी और आग

रोटी और आग

एक बार ''हुजूर सल्लल्लाहु

अलैहि वसल्लम''

अपनी प्यारी बेटी फातिमा

के घर तशरीफ ले जाते है।

जाकर देखते हैं फातिमा

रोटी बना रही है।

हुजूर फरमाते है ''फातिमा तुम तो हर

रोज रोटी बनाती हो आज

मैं तुम्हारे लिए रोटी बनाऊँगा

हुजूर रोटी बना कर रोटी को सेंकने के

लिए आग में डालते हैं बहुत देर तक

रोटी नहीं सीकती हुजूर और

लकड़ियां आग में डालते हैं।

लेकिन रोटी पे कोई फर्क नहीं पड़ता

तब हुजूर रोटी से फरमाते है कि

इतनी आग लगाने पर भी

तुम क्यों नहीं सीक रही हो।

तो रोटी ने कहा ''या रसूल अल्लाह

मुझे आप के हाथों ने छु लिया है यह

आग तो क्या मुझे जहन्नुम

की आग भी नही जला सकती.......

       *(((( सबक ))))*

जिस रोटी को हुजूर ने हाथ से छू

लिया हो उसे कोई आग जला नहीं

सकी तो फिर जिस के दिल में इश्के

नबी हो उसे जहन्नुम की आग क्या

जलाएगी,,,,,,,,,subhanAllah
🕌🕌🕌🕌🕌🕌🕌🕌
Hazrat Ali फरमाते है........
"जितनी भी बड़ी मुश्किल हो
🕌🕌🕌🕌🕌🕌🕌
जितना भी बड़ा इम्तिहान हो
घर से निकलते वक्त एक रोटी के निवाले मैं थोडा सा नमक डाल कर खा लो,
ऐसा मुमकिन ही नही की घर मायूस हो कर लोटो।
🕌🕌🕌🕌🕌🕌🕌
ये तोहफा दुसरो को भी दे
क्योंकि अल्लाह तोहफा देने वालो को पसंद फरमाता हे.
हजरत अबू हुरेरा र अ फरमाते है की जो शख्स जुमे को सुबह से लेकर ईशां तक कसरत से दुरूद पढेगा समझो उसने जन्नत खरीद ली।और जिसने यह खबर दुसरों तक पहुॅचाई तो हजरत (सअस)कयामत के दिन उसको अपने साथ जन्नत लेकर जायेंगे।
*हज़रात  अली*

ने  फ़रमाया हमेशा   समझोता  करना  सीखो  क्योंकि  थोडा  सा  झुक  जाना  किसी  रिश्ते  का  हमेशा  के  लिए  टूट  जाने  से  बेहतर  है  इस  पर , आप 

*सल्लल्लाहु  अलैहि  वस्सलाम*  ने  फ़रमाया  अगर  झुक  जाने  से  तुम्हारी  इज्जत    घट  जाये  तो  क़यामत  के  दिन  मुझसे  ले  लेना
आप

*सल्लाहु  वलैहि  वस्सलाम*
ने  फरमाया : अल्लाह  उस  के  चेहरे  को  रोशन  करे  जो  हदीस  सुन  के  आगे  पहुँचाता  है

No comments:

विशिष्ट पोस्ट

सामान्य(मुस्लिम)जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को हटाने से संबंधित निर्णय को वापस ले सरकार वरना सड़क से लेकर संसद तक होगा आंदोलन :- मोहम्मद कमरे आलम

आठ वर्षों से कार्य कर रहे सामान्य मुस्लिम जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को एक झटके में बिहार सरकार द्वारा सेवा से यह कह कर हटा दिया...