Click here online shopping

Saturday, September 29, 2018

सामान्य(मुस्लिम) तालिमी मरकज़ के शिक्षा स्वयं सेवकों ने उच्च न्यायालय पटना से केस जीतने के बाद योगदान के लिए ज़िला शिक्षा पदाधिकारी सहरसा को दिया आवेदन

सामान्य(मुस्लिम) तालिमी मरकज़ के शिक्षा स्वयं सेवकों ने उच्च न्यायालय पटना से केस जीतने के बाद योगदान के लिए ज़िला शिक्षा पदाधिकारी और जिला कार्यक्रम पदाधिकारी साक्षरता सहरसा को आज आवेदन दिया है और उस की प्रतिलिपि निदेशक जन शिक्षा बिहार पटना को भी दी है।

मालूम हो कि जिला सहरसा में जन शिक्षा निदेशक पटना के निर्गत पत्रांक 1088के अनुपालन में जिला कार्यक्रम पदाधिकारी साक्षरता ने दिनांक 11.08.2018  को दो शिक्षा स्वयं सेवक मोहम्मद शमीम और मसी इमाम की सेवा ये कहते हुए समाप्त कर दिया था कि आप अल्पसंख्यक सामान्य जाति से आते हैं इस लिए आप का नियोजन अवैध है जिस के विरुद्ध मोहम्मद शमीम व अन्य ने पटना उच्च न्यायालय में समादेश संख्या 17914/2018 दाखिल किया था। 19 सितम्बर को माननीय न्यायाधीश ने सुनवाई के दौरान पक्ष सुनने के बाद जिला कार्यक्रम पदाधिकारी साक्षरता सहरसा द्वारा निर्गत पत्र को निरस्त कर दिया था।

योगदान आवेदन देने के मौके पर सुपौल ज़िले के अंज़ारूल हक़ मौजूद थे।

No comments:

विशिष्ट पोस्ट

सामान्य(मुस्लिम)जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को हटाने से संबंधित निर्णय को वापस ले सरकार वरना सड़क से लेकर संसद तक होगा आंदोलन :- मोहम्मद कमरे आलम

आठ वर्षों से कार्य कर रहे सामान्य मुस्लिम जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को एक झटके में बिहार सरकार द्वारा सेवा से यह कह कर हटा दिया...