Wednesday, October 10, 2018

मानदेय भुगतान के प्रलोभन में न आएं, किसी भी कीमत पर अपना प्रभार न दें प्रेरक, समन्वयक :- नागेन्द्र कुमार पासवान

निदेशक जन शिक्षा पटना द्वारा  प्रभार सौपने सम्बन्धी आये दिन नया - नया  पत्र निकालकर साक्षर भारत कर्मियो को सामाजिक व मानसिक रूप से प्रताड़ित करने का जघन्य अपराध किए जाने का आरोप निदेशक जन शिक्षा पर लगाया है।
उन्होंने कहा कि अभी तक नियोजन अधिकारी द्वारा विधिवत किसी कर्मी को सेवामुक्ति सम्बंधित कोई पत्र हस्तगत नहीं कराया गया है।अभी तक पंचायत,प्रखण्ड,जिला लोक शिक्षा समिति को भंग नहीं किया गया है और ना ही तीनों स्तरो पर गठित चयन समिति ही भंग किया गया है।
   साक्षर भारत कार्यक्रम को बन्द करने एवम् प्रेरक समन्वयक को सेवा मुक्त करने सम्बन्धी भारत सरकार का कोई स्पष्ट आदेश या निर्देश राज्य सरकार को नही प्राप्त है।जब तक तीनो स्तरो पर लोक शिक्षा समिति जीवन्त है,नियोजन इकाई के सक्षम प्राधिकार द्वारा सेवा मुक्त संबंधी कोई पत्र नहीं मिल जाता है किसी भी सूरत में अपना प्रभार किसी को नहीं दें।
उन्होंने आगे कहा कि जहाँ तक मानदेय भुगतान का सवाल है कार्यावधि का भुगतान लेबर कोर्ट से लड़कर लेंगें। समायोजन के लिए अपनी लड़ाई निरन्तर जारी रखना है।
निदेशालय के झांसा में या किसी व्यक्ति  संघ /संगठन के  बहकावे में आकर अपना प्रभार किसी को ना दे , प्रभार लेकर आपको साक्षर भारत की नौकरी की परिधि से बाहर करने की गहरी साजिस है।
यदि लोभ वश या भय वश प्रभार दे दिया सेवामुक्ति की निदेशालय की शर्त आपने स्वीकार कर  ली, बाद में कोट जाने का रास्ता भी बन्द हो जायगा।
उन्होंने कहा कि प्रभार चार ही स्थिति में दिया - लिया जाता है।
1. सेवानिवृति उपरांत
2. स्थानांतरण उपरांत
3. निलंबन उपरांत
4.सेवा बर्खाश्त के उपरांत
हमारे ऊपर चारो में से कोई एक भी शर्त लागू नहीं होता है।इसलिए प्रभार देने का कोई औचित्य नहीं है।
          

No comments:

विशिष्ट पोस्ट

सामान्य(मुस्लिम)जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को हटाने से संबंधित निर्णय को वापस ले सरकार वरना सड़क से लेकर संसद तक होगा आंदोलन :- मोहम्मद कमरे आलम

आठ वर्षों से कार्य कर रहे सामान्य मुस्लिम जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को एक झटके में बिहार सरकार द्वारा सेवा से यह कह कर हटा दिया...