Click here online shopping

Thursday, November 01, 2018

प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना में रिश्वत ख़ोरी का बाज़ार गर्म

MD.KAUSAR RABBANI
परिहार प्रखंड और सीतामढ़ी जिला के विभिन्न प्रखंडो के विभिन्न  पंचायतों में प्रधानमंत्री आवास योजना में इन दिनों लूट मची हुई है। यह योजना अधिकारियों / कर्मियों के साथ -साथ जनप्रतिनिधियों के लिए कामधेनू साबित हो रहा है। लाभुक हैरान व परेशान हैं। न्याय पाने के लिए प्रखंड से जिला कार्यालय तक चक्कर लगा रहे हैं। यह कारनामा प्रखंड में कार्यरत इंदिरा आवास सहायक / मुखिया / मुखिया पतियों उसके अन्य रिश्तेदारों व वार्ड सदस्यों की मिली भगत से हो रहा है। भवन आपका बने या नहीं उन्हें कोई मतलब नहीं , उन्हें लाभुक को मिली राशि में हिस्सेदारी से मतलब है। अगले किश्त की राशि नहीं देने की धमकी देकर नजायज तरीके से राशि वसूली की जा रही है। अधिकारी सबकुछ जानकर अंजान बने हुए है। सरकारी कर्मियों के माध्यम से योजना में इस तरह से लूट मची हुई है,और अधिकारी अनभिज्ञ हों यह संभव ही नहीं । सबसे दिलचस्प बात है कि प्रत्येक लाभुक से हजार-दो हजार नहीं बल्कि 24-24 हजार रुपये और कई लाभुक के पूरे के पूरे पहली किश्त के 55 हजार रुपये तक इन जन प्रतिनिधियों ने डरा धमका कर जबरन निकासी करवा ले लिया।
मालूम हो कि आवास योजना के तहत प्रथम किस्त 55 हजार रुपये खाता में भेजा जाता है ज्यादतर लाभुकों को कहा जाता है कि अगर राशि नहीं दोगे तो दूसरी किश्त की राशि से वंचित हो जाओगे। आवास योजना की स्वीकृति के लिए लाभुकों का चयन पहले ही किया गया था। अब वैसे लाभुकों को हटाकर नए लाभुकों का चयन किया जा रहा है,जो उन्हें मोटी रकम दे रहे हैं। यह खेल केवल परिहार प्रखंड में ही नहीं हो रहा है, बल्कि सीतामढ़ी जिला के सभी प्रखंड के सभी पंचायतों में आवास योजना में गड़बड़झाला हो रहा है। नजराना दो,आवास का लाभ लो,वाली कहावत बनी हुई है। जिले से वरीय अधिकारियो के गठित जांच टीम से मामले की छानबीन की जाए तो बड़े मामले का खुलासा हो सकता है। ऐसे सीतामढ़ी जिलाधिकारी महोदय की ईमानदारी की चर्चा अभी पूरे भारत मे हो रहा है देखना है की  जिला अधिकारी महोदय सख्त कदम उठाते है कि नही ऐसे मुझे पूर्ण विश्वास है कि महोदय जल्द करवाई करेंगे ऐसे बिचौलिए और सरकारी कर्मियों पर जो भ्र्ष्टाचार में सँगलिप्त है और जनप्रतिनिधियों और उसके के रिश्तेदारों पर जो गरीब जनताओं को लूट रहे है और सरकार के योजनों में लूट खसोट मचाये हुए है और सरकारी योजनाओं को विफल करने में दिन रात लगे हुए है और अपनी मोटी कमाई कर रहे है।

No comments:

विशिष्ट पोस्ट

सामान्य(मुस्लिम)जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को हटाने से संबंधित निर्णय को वापस ले सरकार वरना सड़क से लेकर संसद तक होगा आंदोलन :- मोहम्मद कमरे आलम

आठ वर्षों से कार्य कर रहे सामान्य मुस्लिम जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को एक झटके में बिहार सरकार द्वारा सेवा से यह कह कर हटा दिया...