Click here online shopping

Monday, November 26, 2018

अपने मंज़िल के हसूल के लिए जिद्दोजहद, कोशिश करना ज़िन्दा दिल लोगों का काम है।

अपने मंज़िल के हसूल के लिए जिद्दोजहद, कोशिश करना ज़िन्दा दिल लोगों का काम है।

जो क़ौम कोशिश करना छोड़ देती है उसका अंजाम नाकामयाबी होती है वे लोग हमेशा कामयाब होते हैं जो मुसलसल कोशिश करते रहते हैं और अल्लाह के रहीमी और करीमी पर मुस्तहकम यक़ीन रखते हैं अल्लाह चाहे तो मौत को ज़िन्दगी में तब्दील कर देता है नाकामयाबी को कामयाबी में तब्दील कर देता है ये तालीमी मरकज़ की नौकरी किया है अल्लाह पर भरोसा कर अपनी आवाज़ बुलंद करते रहें अल्लाह जाबिर हुक्मरान को मोम की तरह पिघला देगा और नौकरी वापस कर देगा मगर शर्त ये है जंग जारी रहनी चाहिए।

उठ बांध कमर क्यो डरता है
फिर देख खुदा किया करता है।
ज़रूरत है तो सिर्फ चिंगारी को शोला बनाने की।
जो जहां हैं उसी मक़ाम से जंग का एलान कर दें आवाज़ बस उठती रहनी चाहिए अपने आप को हालात के थपेड़ों के हवाले न छोड़ें।
आपका दोस्त
मोहम्मद कमरे आलम
एकडण्डी परिहार सीतामढ़ी
9199320345

No comments:

विशिष्ट पोस्ट

सामान्य(मुस्लिम)जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को हटाने से संबंधित निर्णय को वापस ले सरकार वरना सड़क से लेकर संसद तक होगा आंदोलन :- मोहम्मद कमरे आलम

आठ वर्षों से कार्य कर रहे सामान्य मुस्लिम जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को एक झटके में बिहार सरकार द्वारा सेवा से यह कह कर हटा दिया...