Tuesday, July 17, 2018

नीतीश कुमार की सरकार सामान्य मुस्लिम की नही अतिपिछड़े मुस्लिमों की है

"" मुस्लिम महिला तालिमी मुहिम ""  परिपत्र के कंडिका 2 से स्पष्ट है कि तालिमी मरकज़ सम्पूर्ण मुस्लिम समुदाय के लिए खोल दिया गया।सम्पूर्ण मुस्लिम समुदाय के लिए खोल दिया गया तो बिहार शिक्षा परियोज परिषद पटना द्वारा इस सम्बंध में परिपत्र भी निर्गत किया गया होगा।भारत सरकार द्वारा उक्त कार्यक्रम में बिहार शिक्षा परियोजना परिषद को ग्रान्ट देना बन्द कर दिया गया तो तालिमी मरकज़ का संचालन 10 दिसम्बर 2012 से जन शिक्षा के नियंत्रणाधिन कर दिया और वर्ष 2013 में राज्य संपोषित योजना "महादलित अल्पसंख्यक एवं अत्यंत पिछड़ा वर्ग अक्षर आँचल योजना " (यहाँ अल्पसंख्यक से अभिप्राय सम्पूर्ण मुस्लिम जातियाँ है )  का प्रारंभ किया गया जिस में सभी पूर्व तालिमी मरकज़ शिक्षा स्वयं सेवक को "शिक्षा स्वयं सेवक "के रूप में रखने का प्रावधान किया गया और जहाँ तालिमी मरकज़ का संचालन नही हुआ था या शिक्षा स्वयं सेवी नही थे वहाँ बिहार शिक्षा परियोजना परिषद द्वारा निर्गत तालिमी मरकज़ मार्गदर्शिका के अनुसार चयन करने की बात कही गई है । (यहाँ बिहार शिक्षा परियोजना परिषद पटना के उस तालिमी मरकज़ मार्गदर्शिका से अभिप्राय है जिस में सम्पूर्ण मुस्लिम समुदाय के लिए तालिमी मरकज़ को  खोल दिया गया न कि पत्रांक 3982 दिनांक 14.08.2009 से निर्गत मार्ग दर्शिका)।
अतः ये कहना कि उक्त योजना  सिर्फ परिशिष्ट 1 में सम्मिलित मुस्लिम जातियों के लिए ही है परिपत्र को नकारने जैसा है।

विशिष्ट पोस्ट

सामान्य(मुस्लिम)जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को हटाने से संबंधित निर्णय को वापस ले सरकार वरना सड़क से लेकर संसद तक होगा आंदोलन :- मोहम्मद कमरे आलम

आठ वर्षों से कार्य कर रहे सामान्य मुस्लिम जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को एक झटके में बिहार सरकार द्वारा सेवा से यह कह कर हटा दिया...