Friday, October 05, 2018

अक्षर आँचल योजना के अनुश्रवण एवं प्रबोधन में समन्वयकों(साक्षर भारत) को लगाया जाए :- नागेन्द्र कुमार पासवान

महादलित दलित एवम् अत्यंत पिछड़ावर्ग अल्पसंख्यक अक्षर आँचल  राज्य सम्पोषित वैकल्पिक साक्षरता कार्यक्रम के तहत जिला में  संचालित तालीमी मरकज एवम् उत्थान केन्द्रो का प्रभावकारी अनुश्रवण एवम् प्रबोधन ,हेतु एस आर जी एवम् के आर पी के अलावे जिला स्तर पर डी आर जी के रूप में मुख्य कार्यक्रम समन्वयक एवम् जिला कार्यक्रम समन्वयक तथा प्रखण्ड स्तर पर बी आर जी के रूप में प्रखण्ड कार्यक्रम समन्वयक को क्रमशः 8000 एवम् 5000 रुपए प्रतिमाह अनुश्रवण भतता दिया जता रहा है बिहार सरकार द्वारा वित्तीय वर्ष 2018-19 के बजट में भी डी आर जी एवम् बी आर जी के लिए अनुश्रवण भत्ता मद में राशि स्वीकृत कर्णनकित एवम् आवंटित किया गया है।किन्तु निदेशालय द्वारा अकारण मनमानी तरीका से जिला अनुश्रवण दल के मुख्य कार्क्रम समन्वयक व् प्रखण्ड अनुश्रवण दाल के प्रखण्ड कार्यक्रम समन्वयक का अनुश्रवण भत्ता भुगतान पर रोक लगा दिया गया है।जिससे इस महती कार्यक्रम पर प्रतिकूल प्रभाव पर रहा है।
       नागेन्द्र कुमार पासवान ,महामन्त्री भारतीय मजदूर संघ सीतामढ़ी ने पत्र लिखकर सरकार से मांग किया है की कार्यक्रम के हित में पूर्व की भांति  प्रभवकारी अनुश्रवन  अनुसमर्थन एवम्  प्रबोधन कार्य में डी आर जी एवम् बी आर जी के रूप में जिला /समन्वयक मुख्य कार्य क्रम समन्वयक तथा प्रखण्ड कार्यक्रम समन्वयक को लगाया जय तथा पूर्व की भांति मुख्य कार्यक्रम समन्वयक को अक्षर आँचल खाता संचालन में सह हस्ताक्षरी बनाया जाय।

Wednesday, October 03, 2018

डीजल की कीमत में बृद्धि के अनुपात में यात्री भाड़ा तिगुना बृद्धि किया जाना सरासर अन्याय व् शोषण है :- नागेंद्र कुमार पासवान

नागेन्द्र कुमार पासवान भारतीय मजदूर संघ सीतामढ़ी माननीय मुख्यमन्त्र , प्रधान सचिव,परिवहन विभाग,बिहार,सभी प्रमण्डलीय आयुक्त
,सभी जिला पदाधिकारी ,सभी जिला परिवहन पदाधिकारी को को आवेदन दे कर विरोध दर्ज करवा है उन्होंने लिखा है कि बिहार मोटर ट्रांस्पोटर फेडरेशन द्वारा मनमानी तरीके से बस यात्री भाड़ा में अप्रत्याशित बृद्धि कर दी गई है जिससे आम यात्री में असन्तोष एवम् आक्रोश व्याप्त है।डीजल की कीमत में बृद्धि के अनुपात में यात्री भाड़ा तिगुना बृद्धि किया गया है जो सरासर अन्याय व् शोषण है।उन्होंने मोटर ट्रांसपोर्ट फेडरेश एवम् शासन के साथ मिल बैठकर जनहीत में समुचित भाड़ा निर्धारित किए जाने की माँग की है ताकि निजी बस मालिकों के शोसन से आम जन को निजात मिल सके।

Monday, October 01, 2018

सीतामढ़ी के0आर0पी0(अक्षर आँचल योजना) सूची को निरस्त कर नए सिरे से नियमानुसार चयन किया जाए

सीतामढ़ी के0आर0पी0(अक्षर आँचल योजना) सूची को निरस्त कर नए सिरे से नियमानुसार चयन किया जाए

सामाजिक, आर्थिक,शैक्षिक रूप से पिछड़ा दलित ,महादलित, अल्पसंख्यकों की असाक्षर महिलाओं को साक्षर करने तथा  अनामांकित क्षिजित,अनियमित बच्चों को विद्यालय पहुँचाने एवं कमजोर बच्चों को उपचारात्मक शिक्षा देने के लिए बिहार सरकार द्वारा 10000(दस हजार) तालिमी मरकज़  20000(बीस हजार) उत्थान केंद्र पर नियोजित  टोला सेवक तथा शिक्षा सेवी को प्रशिक्षण देने  केन्द्रों का अनुश्रवण, प्रबोधन करने के लिए सीतामढ़ी जिला के 17(सत्रह)  प्रखण्डों में 17  KRP का नियोजन किया गया था।जिसमें एक भी अनुसूचित जाति,अनुसूचित जनजाति,  व अल्पसंख्यक समुदाय का नियोजन नहीं किया गया है।जबकि उत्थान केंद्र की स्थापना केवल दलित,महादलित एवं तालीमी मरकज की स्थापना केवल अल्पसंख्यक(मुस्लिम) समुदाय के लिए किया गया है।तालीमी मरकज साक्षरता केन्द्र पर नामांकित शिशुक्षु को  उर्दू प्राइमर ,योजना के प्रारंभिक समय से ही आज तक उपलब्ध नहीं कराया गया और न ही तालिमी मरकज़ पर नामांकित बच्चों को उर्दू किताबें दस्तियाब कराई जाती है जो अल्पसंख्यक मुस्लिम के साथ अन्याय के साथ ही बिहार के दूसरी राज्य भाषा की उपेक्षा है शिक्षा विद्व का भी कहना है कि बच्चों को उनकी मादरी ज़ुबान में तालीम दी जाय लेकिन जन शिक्षा विभाग द्वारा इस का अनुपालन नही किया जा रहा है जब योजना का संचालन बिहार शिक्षा परियोजना के अधीन था तो उर्दू किताबें मुहैया कराई जाती थीं।शिक्षा सेवी को विशेष प्रशिक्षण देने के लिए प्रशिक्षक का चयन किया गया है उस में भी अल्पसंख्यक समुदाय को नज़र अंदाज़ कर एक भी उर्दू भाषी प्रशिक्षक का चयन नहीं किया जाना  दुर्भाग्यपूर्ण है।
सीतामढ़ी ज़िला अन्तर्गत के0 आर0 पी0  चयन में भी सरकारी दिशा निर्देश का अनुपालन नही किया गया चयन से पूर्व जिला या प्रखण्ड स्तर से इसका कोई प्रचार प्रसार भी नहीं किया गया और पर्दे के पीछे ही गुप् चुप तरीके से नियोजन की कार्रवाई की गई है।किसी आरक्षण रोस्टर का अनुपालन नहीं किया गया जो संवैधानिक अधिकारों का हनन  है।
  नागेन्द्र कुमार पासवान  जिला महामन्त्री  भारतीय मजदूर संघ सीतामढ़ी और मोहम्मद कमरे आलम ज़िला अध्यक्ष भारतीय माइनॉरिटीज सुरक्षा महासंघ सीतामढ़ी ने निदेशक जन शिक्षा ,प्रधान सचिव शिक्षा विभाग बिहार,मुख्य सचिव  बिहार से मांग किया है कि के0  आर0 पी0 के चयन में घोर अनियमितता की गई है।तत्काल प्रभाव से वर्तमान के0 आर0 पी0 की सूची को निरस्त किया जाय तथा आरक्षण रोस्टर के अनुसार  तथा तालीमी मरकज पर उर्दू प्राइमर,शिक्षा स्वंय सेवी के प्रशिक्षण व् प्रबोधन के लिए उर्दूभाषी प्रशिक्षक का चयन साथ ही प्राथमिकता के आधार पर  अल्पसंख्यक  के0 आर0 पी0 का  चयन किया जाय।
सरकार के निदेशानुसार सम्पूर्ण साक्षरता अभियान कार्यक्रम के तहत प्रत्येक प्रखण्ड में एक स्थानीय,योग्य व् सक्षम व्यक्ति को के0 आर0पी0 में बहाल करना था।जिसकी योग्यता कम से कम स्नातक होनी चाहिए थी।किन्तु  शिक्षा विभाग की मनमानी के कारण एक भी अल्पसंख्यक तथा अनुसूचित जाति को के0 आर0 पी0 नहीं बनाया गया।एक ही प्रखंड से 4-4  व्यक्ति को के0 आर0 पी0 बनाया गया ,  वही किसी प्रखण्ड में एक भी नहीं।अधिकांश के0 आर0 पी0 मात्र मैट्रिक व् इंटर पास है। यह घोर अनियमितता है ।

विशिष्ट पोस्ट

सामान्य(मुस्लिम)जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को हटाने से संबंधित निर्णय को वापस ले सरकार वरना सड़क से लेकर संसद तक होगा आंदोलन :- मोहम्मद कमरे आलम

आठ वर्षों से कार्य कर रहे सामान्य मुस्लिम जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को एक झटके में बिहार सरकार द्वारा सेवा से यह कह कर हटा दिया...